औरंगाबाद। नक्सल विरोधी अभियान में लगे सीआरपीएफ एवं एसएसबी को दूसरे राज्य में भेजने की तैयारी की जा रही है। इस बाबत सीआरपीएफ अधिकारियों को मुख्यालय से सूचना दी गई है। छत्तीसगढ़ समेत अन्य राज्यों में होने वाली विधानसभा चुनाव को लेकर जिले से सीआरपीएफ को दूसरे राज्यों में भेजने की योजना है। सीआरपीएफ के एक अधिकारी के अनुसार दूसरे राज्य में जाने की बात चल रही है। यहां सीआरपीएफ की पांच कैंप है। मदनपुर, देव, ढिबरा, एरका कॉलोनी, नवीनगर में सीआरपीएफ एवं काला पहाड़ में एसएसबी की कंपनी तैनात है। जवानों के द्वारा प्रतिदिन नक्सल इलाके में नक्सलियों के खिलाफ अभियान चलाया जाता है। सीआरपीएफ के कारण काफी हद तक नक्सल घटनाओं एवं गतिविधि में कमी आई है। जवानों को दूसरे राज्यों में भेजने के बाद कैंप को नक्सलियों के द्वारा निशाना बनाया जा सकता है। इसका उदाहरण यहां देखा गया है। देव के ¨सचाई कॉलोनी में नवनिर्मित सीआरपीएफ कैंप को जवानों को रहने के पूर्व ही ध्वस्त कर दी गई थी। जवानों के रहते नक्सलियों के द्वारा मदनपुर एवं भलुआही कैंप पर हमला किया गया है। अगर जवाने हट जाएंगे तो कैंप को नक्सलियों द्वारा ध्वस्त कर दी जा सकती है। हालांकि एसपी डा. सत्यप्रकाश ने बताया कि ऐसी कोई बात नहीं है। अगर जवान दूसरे राज्य में चुनाव ड्यूटी में जाते हैं तो दूसरा बल यहां आ जाएगी। कैंप खाली नहीं छोड़ा जाएगा।

Posted By: Jagran