दो माह में पूरा होगा सदर अस्पताल का नवनिर्मित भवन

औरंगाबाद : डीएम सौरभ जोरवाल ने बुधवार को सदर अस्पताल का निरीक्षण किया। अस्पताल के नवनिर्मित बहुमंजिले भवन के निर्माण कार्य को देखा। बताया गया कि प्रथम फेज में तीन भवनों का निर्माण कराया जा रहा है। माडल अस्पताल, मातृ शिशु अस्पताल एवं किचन भवन का निर्माण कार्य हो रहा है। इन भवनों का कार्य पूर्ण होने पर फेज टू के भवन का कार्य कराया जाएगा। सदर अस्पताल में जगह कम होने के कारण एक-एक कर भवनों का निर्माण कराया जा रहा है। इन भवनों के पूर्ण होने पर मुख्य अस्पताल को इन भवनों के शिफ्ट किया जाएगा। उसके बाद शेष कार्यों को शुरू किया जाएगा। सदर अस्पताल के पिछले गेट के पास किचन भवन का कार्य प्रगति पर है। ग्राउंड फ्लोर पीसीसी और संरचना का कार्य पूर्ण हो चुका है। प्लास्टर का कार्य कराया जा रहा है। निरीक्षण के दौरान डीएम ने भवन को पूर्ण करने का शीघ्र पूरा करने का निर्देश दिया ताकि ओपीडी का संचालन हो सके। वर्तमान में ओपीडी मुख्य भवन में चल रहा है किंतु निर्माण कार्य के कारण जगह की कमी हो गई है। मरीजों, चिकित्सकों एवं अस्पताल कर्मियों को परेशानी हो रही है। संवेदक द्वारा बताया गया ग्राउंड फ्लोर का कार्य एक माह में पूर्ण हो जाएगा। ऊपरी मंजिल में संरचना का आधा कार्य पूर्ण हो चुका है। खिड़की, ग्रिल, दरवाजा, बिजली पाइप, प्लंबिंग आदी कार्य प्रगति पर है। अगले दो माह में यह भवन पूर्ण हो जाएगा। बताया गया कि ओपीडी के बनाए जा रहे नए भवन का कार्य भी तेजी से चल रहा है। छह मंजिल तक सुपर स्ट्रक्चर का पूर्ण हो चुका है और सातवी मंजिल का कार्य प्रगति पर है। चार मंजिल तक ईंट जोड़ने का कार्य पूर्ण हो चुका है। बिजली पाइप लगाने का कार्य किया जा रहा है। डीएम ने इस कार्य में भी तेजी लाने का निदेश दिया गया है ताकि ओपीडी के कार्य को सुव्यवस्थित तौर पर चलाया जा सके। अभियंता द्वारा बताया गया कि मातृ शिशु अस्पताल भवन का कार्य भी शुरू हो चुका है। इस भवन को पूर्ण होने में लगभग डेढ़ साल का समय लगेगा। बताया गया कि जलजमाव की स्थित उत्पन्न न हो इसके लिए भी आवश्यक कार्य किए गए हैं। एससीए से एलएइओ के कार्यपालक अभियंता को नाली बनाने का कार्य दिया गया था। अभियंता द्वारा बताया गया कि नाली बनाने का कार्य पूर्ण हो चुका है। अस्पताल के उपाधीक्षक आशुतोष कुमार ने बताया कि अस्पताल में आइसीयू, डायलिसिस, एक्स-रे, सीटी स्कैन, आक्सीजन प्लांट, आरटीपीसीआर लैब, नया प्रसव वार्ड, पोषण पुनर्वास केंद्र, दीदी को रसोई कार्यरत है। ब्लड बैंक का कार्य हो गया है। डीएम ने एसीएमओ एवं उपाधीक्षक अपने कार्यों के अतिरिक्त भवन निर्माण के कार्य की प्रगति एवं गुणवत्ता का पर्यवेक्षण करने को कहा। बीमार छात्राओं से डीएम ने की बात निरीक्षण के दौरान अंबेडकर आवासीय विद्यालय की कुछ बालिकाएं मिली जो इलाजरत थी। छात्राओं को वायरल बुखार था। डीएम ने मेडिकल टीम को आवासीय विद्यालय भेजकर अन्य बालिकाओं की स्वास्थ्य जांच करने का निर्देश दिया। इस दौरान सीएस डा. कुमार बीरेंद्र प्रसाद, डीपीएम कुमार मनोज के अलावा अन्य चिकित्सक, प्रबंधक उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट