औरंगाबाद। दाउदनगर अनुमंडल क्षेत्र बिजली क्षेत्र में आत्मनिर्भरता की दिशा में एक बढ़ता कदम कहा जा सकता है। वर्ष 2018 में दाउदनगर में विद्युत आपूर्ति प्रमंडल की स्थापना हुई और कार्यपालक अभियंता का कार्यालय दाउदनगर में खुला, जो एक विशिष्ट उपलब्धि कही जा सकती है। दाउदनगर प्रखंड के हिच्छन बिगहा एवं चौरम में विद्युत शक्ति उपकेंद्र केंद्र का निर्माण कार्य शुरू कराया गया। हिच्छन बिगहा विद्युत शक्ति उपकेंद्र का भवन बन चुका है। कुछ सामान आ गए हैं और इलेक्ट्रीकल सामान आने वाले हैं। चौरम विद्युत शक्ति उपकेंद्र का निर्माण तेजी से चल रहा है। चारदीवारी का कार्य हो चुका है अन्य कार्य तेज गति से चल रहा है। इन दोनों कार्यों को 2019 में पूर्ण हो जाने की उम्मीद है और इन दोनों विद्युत शक्ति उप केंद्र के चालू हो जाने के बाद दाउदनगर प्रखंड में विद्युत शक्ति केंद्रों की संख्या तीन हो जाएगी। तीन विद्युत शक्ति केंद्र से दाउदनगर इलाके की आबादी को विद्युत आपूर्ति की जाएगी। कनीय विद्युत अभियंता (प्रोजेक्ट) भास्कर कुमार ने बताया कि नए विद्युत शक्ति उप केंद्रों पर पांच- पांच मेगावाट के दो दो पावर ट्रांसफॉर्मर होंगे, जबकि पुराने पावर सबस्टेशन तरारी में अब 20 मेगावाट ( 10 का एक एवं पांच-पांच का दो पावर ट्रांसफॉर्मर) हो गया है। इस प्रकार इस प्रखंड में विद्युत शक्ति उप केंद्रों की संख्या तीन हो जाएगी। सबसे बड़ी बात यह है कि इससे किसानों को लाभ मिलेगा। दोनों विद्युत शक्ति उपकेंद्रों से किसानों के लिए दो-दो कृषि फीडर निकालने की व्यवस्था रहेगी, जबकि तरारी स्थित पावर सब स्टेशन से एक कृषि फीडर निकालने का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। कुछ छोटे कार्य बाकी है। जब नए विद्युत शक्ति उपकेंद्र रूप से कार्य होना शुरू हो जाएगा तो उपभोक्ताओं को बेहतर तरीके से बिजली मिल सकेगी।दाउदनगर तरारी पावर सबस्टेशन को हसपुरा पांवर सब स्टेशन से जोड़ा जा चुका है और 33 हजार पावर के हाई टेंशन तार से जोड़ने का कार्य लगभग पूरा हो चुका है। हसपुरा पावर सबस्टेशन गोह ग्रीड से जुड़ा हुआ है। इसे दाउदनगर तरारी पावर सबस्टेशन को हसपुरा पावर सबस्टेशन के माध्यम से गोह ग्रीड से जोड़ा गया है। अभी औरंगाबाद ग्रीड से जुड़ा है और वहीं से बिजली आपूर्ति होती है। गोह ग्रीड से जुड़ने का लाभ यह होगा कि दाउदनगर में बिजली ग्रिड से बिजली आपूर्ति की आतिरिक्त व्यवस्था हो जाएग। यह कार्य वर्ष 2019 में शुरू होने की उम्मीद है।

Posted By: Jagran