औरंगाबाद। शहर के शाहगंज निवासी जनसंघ के संस्थापक सदस्य रहे 90 वर्षीय बाबूलाल वर्मा की मौत रविवार को हो गई। वे दिवंगत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी एवं कैलाशपति मिश्र के करीबी रहे थे। कैलाशपति मिश्र हमेशा उनके घर आते-जाते रहते थे। उनके निधन से शहर में शोक की लहर दौड़ गई। गया ज्वेलर्स की मालिक बाबूलाल वर्मा के निधन पर शोक जताने उनके घर सांसद सुशील कुमार सिंह, नगर परिषद अध्यक्ष उदय गुप्ता, पूर्व जिलाध्यक्ष रामानुज पांडेय समेत शहर के कई गणमान्य नागरिक शोक जताने उनके घर पहुंचे। सांसद ने शोक जताते हुए कहा कि वे संघ के समर्पित कार्यकर्ता थे। उनके निधन से हर वर्ग को नुकसान हुआ है। पूर्व मंत्री रामाधार सिंह ने उनके निधन पर शोक जताते हुए कहा कि मैंने अपना अभिभावक खो दिया। उनके विचार हमेशा याद रहेंगे। उनके निधन से संघ के साथ भाजपा को अपूरणीय क्षति हुई है। उनके निधन से जो स्थान रिक्त हुआ है उसकी भरपाई नहीं हो सकती। भाजपा नेता पुरुषोत्तम कुमार सिंह, कृष्णा कुमार पिटू, शिवकुमार गुप्ता, सुशील कुमार रिकू, नगर अध्यक्ष अनिल गुप्ता, संजय गुप्ता, रामरूप सिंह, दुर्गा सिंह ने शोक जताया है। सभी ने अपने बयान में कहा है कि उनके निधन से हम सभी मर्माहत हैं। बता दें कि वे अपने पीछे तीन पुत्र व छह पुत्री का भरा पूरा परिवार छोड़कर गए हैं। उनके पुत्र पंकज वर्मा, दिनदयाल वर्मा एवं अर्जुन वर्मा सामाजिक कार्यों में सक्रिय रहते हैं।

Posted By: Jagran