संवाद सहयोगी, दाउदनगर (औरंगाबाद) : प्रखंड के मनार पंचायत के जटा बिगहा गांव निवासी आर्मी जवान 34 वर्षीय विकास कुमार का शव जैसे ही पुणे से पैतृक गांव पहुंचा कोहराम मच गया। स्वजन के साथ ग्रामीण शोकाकुल हो गए। गुरुवार की सुबह नम आंखों से अंतिम विदाई दी गई। बताया गया कि उपेंद्र महतो के पुत्र विकास कुमार आर्मी में सूबेदार के पद पर पदस्थापित थे। वे पुणे में तैनात थे। डेंगू होने के बाद पुणे में ही उनका इलाज के दौरान निधन हो गया था। बुधवार की आधी रात उनका शव पहुंचा। पूरा गांव शोकाकुल हो गया। पत्नी रूबी देवी समेत अन्य स्वजनों का रो-रो कर बुरा हाल था। 

जब मासूम ने दी मुखाग्नि रो ओढ़े लोग

गुरुवार की सुबह शव यात्रा निकाली गई। विकास कुमार अमर रहे का नारा गूंजता रहा। जवान के 10 वर्षीय पुत्र आदित्य कुमार ने मुखाग्नि दी तो वहां उपस्थित सभी की आंखें नम हो गई। उसे मासूम को नहीं पता यह सब क्यों और कैसे हुआ। उसके आंखों में कई सवाल उठते हुए दिख रहे थे। गया रेजिमेंट आर्मी कोर की टुकड़ी ने गार्ड आफ आनर दिया।

नेताओं ने जताया दुख, किया शोक व्यक्त

भाकपा माले केंद्रीय कमिटी सदस्य एवं पूर्व विधायक राजाराम सिंह ,जदयू नेता चंद्रभूषण वर्मा ,अजय कुशवाहा, जाप सहकारिता प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष सुजीत कुमार सिंह उर्फ चुन्नु यादव ,युवा राजद के प्रदेश सचिव अरुण कुमार यादव, पूर्व मुखिया रामदेव सिंह, अशोक सिंह, मनार पंचायत के मुखिया राजकुमार राम, यादव महासभा के अध्यक्ष एवं मुखिया प्रतिनिधि नागेंद्र यादव, भूतपूर्व सैनिक संघ के अनुमंडल अध्यक्ष जनेश्वर प्रसाद सिंह, जिला पार्षद अरविंद यादव ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए शोकाकुल परिवार को ढाढ़स बंधाया।

Edited By: Prashant Kumar Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट