औरंगाबाद। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा आयोजित मैट्रिक की परीक्षा 17 फरवरी से प्रारंभ होनी है। यह परीक्षा 24 फरवरी तक संचालित होगी। परीक्षा दो पालियों में होगी। सभी विद्यालयों में प्राचार्य के नेतृत्व में परीक्षा की तैयारी चल रही है। परीक्षा के लिए औरंगाबाद में कुल 23 केंद्र बनाए गए हैं। इन केंद्रों पर 27 हजार 306 छात्र परीक्षा देंगे। आठ केंद्रों पर छात्र एवं 15 केंद्रों पर छात्राएं परीक्षा देंगी। परीक्षा के लिए तैयारी शुरू हो चुकी हैं। केंद्राधीक्षक द्वारा परीक्षा के लिए केंद्र पर सुविधाएं विकसित की जा रही है।

परीक्षा कदाचारमुक्त कराने के लिए प्रशासकीय एवं केंद्राधीक्षक तैयारी में जुटे हैं। औरंगाबाद में पहली पाली में 13,678 परीक्षार्थी शामिल होंगे जिसमें 4,348 छात्र एवं 9,331 छात्राएं हैं। दूसरी पाली में 13,628 छात्र परीक्षा देंगे जिसमें 4,335 छात्र व 9,293 छात्राएं शामिल हैं। दाउदनगर में 25 केंद्रों पर होगी परीक्षा

मैट्रिक की परीक्षा को लेकर दाउदनगर में औरंगाबाद से अधिक केंद्र बनाए गए हैं। कुल 25 केंद्रों पर 29,279 परीक्षार्थी परीक्षा देंगे जिसमें 20,144 छात्र एवं 9,135 छात्राएं शामिल हैं। पहली पाली में 14,638 परीक्षार्थी परीक्षा देंगे जिसमें 10,075 छात्र व 4,563 छात्राएं शामिल हैं। दूसरी पाली की परीक्षा में 10,069 छात्र एवं 4,572 छात्राएं परीक्षा देंगी। परीक्षा को लेकर दाउदनगर में सभी तैयारी पूरी की जा रही है। केंद्रों में सभी सुविधाओं को उपलब्ध कराया जा रहा है। चार विद्यालय बने आदर्श केंद्र

शिक्षा विभाग के द्वारा औरंगाबाद एवं दाउदनगर के चार विद्यालयों को आदर्श केंद्र बनाया गया है। जिला शिक्षा पदाधिकारी संग्राम सिंह ने बताया कि औरंगाबाद के राजर्षि विद्या मंदिर, अनुग्रह कन्या उच्च विद्यालय, किशोरी सिन्हा कन्या उच्च विद्यालय एवं दाउदनगर के मध्य विद्यालय-2 को आदर्श केंद्र बनाया गया है। यहां केवल छात्राएं परीक्षा देंगी। वीक्षक से लेकर सभी कर्मी महिला होंगी। इस केंद्र पर विशेष सुविधा मुहैया कराई जाएगी। केंद्र को सजाया जाएगा। राजर्षि विद्या मंदिर में 1,009, अनुग्रह कन्या उच्च विद्यालय में 1,026, किशोरी सिन्हा कन्या उच्च विद्यालय में 1,110 एवं दाउदनगर के मध्य विद्यालय-2 में 591 छात्राएं परीक्षा देंगे। कहते हैं अधिकारी-

सभी परीक्षा केंद्रों पर धारा 144 लागू रहेगा। दंडाधिकारी के साथ पुलिस पदाधिकारी की तैनाती की जाएगी। कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए परीक्षा संपन्न कराया जाएगा। कदाचारमुक्त परीक्षा कराना प्रशासन की जिम्मेवारी है।

विजयंत, एसडीओ, औरंगाबाद।

Edited By: Jagran