अररिया। पिछले तीन दिनों से हो रही भारी बारिश के कारण प्रखंड क्षेत्र से बहने वाली बकरा, कनकई तथा परमान नदियों के जलस्तर में अचानक भारी वृद्धि हो गई है। नदियों के उफान से करीब एक दर्जन गांव में बाढ़ का पानी फैल गया है। साथ ही धान की फसल को नुकसान पहुंचा है। बारा इस्तबरार पंचायत में कनकई नदी के कटान से सरपंच सहित एक दर्जन लोगों के घर खतरे की जद में है। बाराइस्तबरार पंचायत के मुखिया फारूक आलम ने कटान निरोधक कार्य कराने की जिला पदाधिकारी प्रशांत कुमार तथा विधायक शाहनवाज आलम से की है। वहीं केसर्रा थाकी मजकुरी बांध पर भी कनकई नदी के पानी का दबाव बढ़ गया है। उधर बकरा नदी से आई बाढ़ के कारण तारण, काकन, बगडहरा, भगवानपुर, मटियारी, कुरसेल, डूबा, गैरकी मसुरिया , पछियारी पिपरा पंचायत में धान की फसल डूब गई है। आधा दर्जन गांव के लोगों के आवागमन के लिए संपर्क पथ पर पानी का बहाव तेज हो गया है। धान की फसल डूबने से किसान निराश हैं। पशुओं के चारे की कठिनाई हो गई है। गिरदा, मटियारी, केसर्रा, हरदार आदि के किसानों ने बताया कि धान की खेती बहुत अच्छी थी लेकिन बाढ़ के कारण फसल डूब गया है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस