Move to Jagran APP

कश्मीर से लौटे बिहारी मजदूरों ने किया खुलासा, जानकर हैरान रह जाएंगे आप

जम्मू कश्मीर से लौटकर बिहार वापस आए मजदूरों ने खुलासा किया है कि उन्हें पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों पर पत्थर फेंकने को कहा जाता था और इसके लिए उन्हें पांच सौ रुपये मिलते थे।

By Kajal KumariEdited By: Published: Thu, 29 Sep 2016 09:40 AM (IST)Updated: Thu, 29 Sep 2016 10:50 PM (IST)

अररिया [उमाशंकर बबलू]। जम्मू-कश्मीर में काम कर रहे अररिया व सुपौल जिले के सैकड़ों मजदूर काम छोड़ कर लौट आए हैं। वे उड़ी तथा आसपास के इलाके में राजमिस्त्री के तौर पर मजदूरी करने गए थे। आतंकी उन पर दवाब डालकर उनसे जबरन सुरक्षा बलों पर पत्थर फेंकवाते थे।

loksabha election banner

कश्मीर से लौटे नरपतगंज प्रखंड के साहेबगंज निवासी मोजीम, रहीम, मुस्ताक, जियाउल, इरशाद, नसर, मुस्लिम, मोजिउल, दिलशाद आदि ने बताया कि कश्मीर में हालात खराब होने के बाद हम सभी लौट आए हैं।

सुपौल जिले के रामबिसनपुर गांव के भी दर्जनों मजदूर वहां फंसे हुए हैं। इन दिनों बाहरी मजदूरों को काम मिलना तो दूर भोजन-पानी पर भी आफत है। वापसी के लिए उनसे मनमाना किराया मांगा जाता है जो मजदूर वर्ग के लोग देने में असमर्थ हैं।

पढ़ें : नीतीश की दो टूक, बिहार में कोई डॉन नहीं, जो डॉन बनेगा अंदर जाएगा

आतंकियों के दवाब की वजह से सबों ने अपना बकाया पैसा छोड़ दिया और अधिकतर लोग दिल्ली-यूपी में मजदूरी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि वे रामबान जिले के खरी, नेटका तथा उड़ी आदि जगहों पर बन रही मस्जिदों में राजमिस्त्री का काम करते थे।

पूरा काम अली मुहमद नामक कश्मीरी की देखरेख में होता था। लेकिन वो उन्हें काम छोड़ सेना व पुलिस पर पत्थर फेंकने का दबाव बनाता था। इससे तंग आकर वे सभी भाग आए हैं। आज भी उनलोगों की मजदूरी का करीब 60 हजार रुपया बकाया है।

पढ़ें : बिहार के एक और बाहुबली पर कसा शिकंजा, MLA अनंत सिंह पर लगेगा CCA

मोजीम ने बताया कि उन्हें कुछ लोकल लोगों व अन्य प्रवासी मजदूरों के साथ पांच-पांच सौ रुपये देकर पुलिस व सीआरपीएफ के काफिलों पर पत्थर फेंकने के लिए मजबूर किया जाता था। चाहे उनका काफिला दिन में जितनी बार भी गुजरे।

हर शाम वहां कुछ लोग 200 से 300 ग्राम के पत्थर बोरों में भर कर ट्रकों की मदद से हर घर तक पहुंचाते थे। जिन्हें पत्थर फेंकने के पैसे दिए जाते थे उनपर भी नजर रखी जाती थी। उसने बताया कि कफ्र्यू की वजह से कश्मीर घाटी में कामकाज बंद है और वहां फंसे मजदूरों को पैसे का लोभ देकर पुलिसकर्मियों पर पत्थर फेंकवाया जा रहा है।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.