इसे वेब पर नहीं ले

पीएचसी भंडार गृह के निरीक्षण के लिए अधिकारियों को सौंपी गई जिम्मेदारी

जासं, अररिया: जिले में संभावित बाढ़ के खतरों को देखते हुए प्रशासनिक तैयारी शुरू कर दी गई है। डीएम इनायत खान के निर्देश पर गठित प्रशासनिक व स्वास्थ्य अधिकारियों की विशेष टीम ने जिले के सभी पीएचसी भंडार गृह का औचक निरीक्षण किया। इसके लिए विभिन्न प्रखंडों में निरीक्षण की जिम्मेदारी अलग अलग अधिकारियों को सौंपी गयी थी।

डीएम इनायत खान ने कहा कि स्वास्थ्य सेवा की बेहतरी व संभावित बाढ़ की संभावना को देखते हुए सभी प्रमुख स्वास्थ्य संस्थानों के भंडार गृह के निरीक्षण करने का आदेश दिया गया है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य संस्थानों में उपलब्ध आवश्यक उपस्कर व दवाओं के आकलन के लिहाज से उन्होंने निरीक्षण को महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि निरीक्षण से प्राप्त नतीजों के आधार पर जरूरी उपस्कर व दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कराने को लेकर जरूरी प्रयास किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि बारिश का मौसम जल्द जिले में दस्तक देने वाला है। ऐसे में संभावित बाढ़ के खतरों को देखते हुए आवश्यक तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। निरीक्षण करने के लिए अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंप दी गई है। बाढ़ के दौरान जल जनित बीमारियों का खतरा अधिक होता है। इस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। बाढ़ पूर्व तैयारियों को दिया जा रहा अंतिम रूप :

सिविल सर्जन डा विधानचंद्र सिंह ने कहा कि डीएम से प्राप्त दिशा निर्देश के आलोक में गठित विशेष टीम द्वारा प्रमुख स्वास्थ्य संस्थानों के भंडार गृह का निरीक्षण किया गया। इससे आवश्यक दवा व संसाधनों की कमी का पता लगाया जा सकेगा। समय रहते कमियों का पता लगाना जरूरी :

डीपीएम स्वास्थ्य रेहान अशरफ ने स्वास्थ्य सेवा की बेहतरी के लिये निरीक्षण को काफी महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि इससे बाढ़ पूर्व आवश्यक तैयारियों से जुड़ी कर्मियों का पता लगाया जा सकेगा। जिससे समय रहते इसमें सुधार किया जा सके। उन्होंने कहा कि इससे स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी व मरीजों को आवश्यक सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित कराने की प्रक्रिया को मजबूती मिलेगी।

Edited By: Jagran