Move to Jagran APP

राजमार्ग मंत्रालय ने जुटाया 40,314 करोड़ रुपये का जबरदस्त रेवेन्यू, जानिए कहां से आया कितना पैसा

एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (MoRTH) ने 2023-24 में एसेट मोनेटाइजेशन के विभिन्न तरीकों से 28968 करोड़ रुपये के लक्ष्य के मुकाबले 40314 करोड़ रुपये जुटाए हैं। वर्तमान में MoRTH तीन अलग-अलग तरीकों के तहत अपनी संपत्ति का मुद्रीकरण करता है। इसमें टोल-ऑपरेट-ट्रांसफर (TOT) मॉडल इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट (InvIT) और प्रोजेक्ट-आधारित वित्तपोषण शामिल है।

By Agency Edited By: Ram Mohan Mishra Published: Tue, 02 Apr 2024 05:30 PM (IST)Updated: Tue, 02 Apr 2024 05:30 PM (IST)
राजमार्ग मंत्रालय ने जुटाया 40,314 करोड़ रुपये का जबरदस्त रेवेन्यू, जानिए कहां से आया कितना पैसा
राजमार्ग मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2024 में 40,314 करोड़ रुपये का रेवेन्यू जुटाया है।

पीटीआई, नई दिल्ली। वित्त वर्ष 2023-24 में MoRTH ने जबरदस्त रेवेन्यू जुटाया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (MoRTH) ने 2023-24 में एसेट मोनेटाइजेशन के विभिन्न तरीकों से 28,968 करोड़ रुपये के लक्ष्य के मुकाबले 40,314 करोड़ रुपये जुटाए हैं।

loksabha election banner

कहां ये आया कितना पैसा? 

अधिकारी ने पीटीआई को बताया कि मंत्रालय ने 4 टोल-ऑपरेट-ट्रांसफर (टीओटी) बंडलों के मुद्रीकरण के माध्यम से 15,968 करोड़ रुपये, इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट (इनविट) के माध्यम से 15,700 करोड़ रुपये और प्रतिभूतिकरण के माध्यम से 8,646 करोड़ रुपये जुटाए हैं।

उन्होंने कहा-

एनएचएआई का कुल संपत्ति मुद्रीकरण कार्यक्रम अब तक 1 लाख करोड़ रुपये को पार कर गया है। मंत्रालय ने संपत्ति मुद्रीकरण के विभिन्न तरीकों से 2022-23 में 32,855 करोड़ रुपये जुटाए थे।

यह भी पढ़ें- BMW Group और Tata Technologies ने शुरू किया Joint Venture, अब और हाईटेक हो जाएंगी गाड़ियां

कैसे आता है रेवेन्यू? 

वर्तमान में, MoRTH तीन अलग-अलग तरीकों के तहत अपनी संपत्ति का मुद्रीकरण करता है। इसमें टोल-ऑपरेट-ट्रांसफर (TOT) मॉडल, इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट (InvIT) और प्रोजेक्ट-आधारित वित्तपोषण शामिल है।

अधिकारी ने यह भी कहा कि वित्तीय वर्ष 2023-24 के दौरान, एनएचएआई ने 6,544 किमी के लक्ष्य के मुकाबले 6,644 किमी राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण हासिल किया। उन्होंने कहा, "यह एनएचएआई द्वारा एक वित्तीय वर्ष में हासिल किया गया अब तक का सबसे अधिक राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण है।"

अधिकारी के अनुसार, 2023-24 में राष्ट्रीय राजमार्ग बुनियादी ढांचे के विकास के लिए एनएचएआई द्वारा पूंजीगत व्यय 2,07,000 करोड़ रुपये के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया। वित्त वर्ष 2022-23 में 1,73,000 करोड़ रुपये और वित्त वर्ष 2011-22 में 1,72,000 करोड़ रुपये की तुलना में पूंजीगत व्यय लगभग 20 प्रतिशत बढ़ गया है। 

यह भी पढ़ें- Bajaj Auto की बिक्री में 25 प्रतिशत की बढ़ोतरी, सेल बढ़ाने के लिए CNG Bike भी जल्द मारेगी एंट्री


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.