Move to Jagran APP

एकबार फिर चीन ने इस कार की बनाई सस्ती कॉपी, नाम सुनकर लग जाएगा झटका

चीनी ऑटो बाजार पॉपुलर कारों की सस्ती कॉपी बनाने के लिए चर्चा में रहता है। इसी चीज की वजह से एक बार फिर से चीनी ऑटो बाजार चर्चा में आ गया है। इस बार वहां पर रेंज रोवर एसयूवी की की सस्ती कॉपी बनाई गई है। जो हुबहू रेंज रोवर की तरह दिखती है। जिसकी फोटोज सोशल मीडिया पर वायरल हो गई हैं।

By Mrityunjay Chaudhary Edited By: Mrityunjay Chaudhary Thu, 11 Jul 2024 09:15 PM (IST)
यह कॉम्पैक्ट कार रेंज रोवर की तरह दिखती है।

ऑटो डेस्क, नई दिल्ली। चीनी ऑटोमोटिव मार्केट दुनिया भर में फेमस मॉडलों की तरह दिखने वाली कार की सस्ती कॉपी बनाने के लिए बदनाम है। इस तरह के मॉडल का एक एक्जाम्पल सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस बार चीनी ऑटोमोटिव बाजार में रेंज रोवर की कॉपी देखी गई है। जिसे देखकर कोई भी बता सकता है कि यह कॉम्पैक्ट कार रेंज रोवर की तरह दिखती है। आइए जानतें है इसके बारे में।

कैसा है कार का इंटीरियर

इसमें भूरे रंग के लेदरेट इंटीरियर दिए गए हैं। जिसकी फिनीशिंग काफी लो है। इसके साथ ही यह रेंज रोवर के लगभग हर पहलू और डिज़ाइन को नकल करता है। जिसमें ग्रिल, हेडलाइट्स, DRLs, बम्पर और समग्र बॉक्सी सिल्हूट जैसे पार्ट शामिल है। कार के पीछे की तरफ स्टैक्ड LED टेल लैंप और छत पर लगा स्पॉइलर दिए गए हैं। वहीं, ग्रिल को क्रोम से डिजाइन किया गया है।

यह भी पढ़ें- Maruti Wagon R ने हासिल किया नया माइलस्टोन, सिर्फ 5.5 साल में बिकी 10 लाख से ज्यादा यूनिट्स

देखने में सब एसयूवी जैसा

इस कार की सबसे ज्यादा मजेदार बात है इसका कॉम्पैक्ट साइज, जो सब-4 मीटर मास-मार्केट एसयूवी जैसा है। यह रेंज रोवर के छोटे साइज के वेरिएंट जैसा दिखता है। जिसमें छोटे व्हीलबेस दिए गए हैं। टायरों की बात करें तो इसमें मल्टी-स्पोक एलॉय व्हील्स दिए गए हैं, जो छोटे एंट्री-सेगमेंट कार टायरों में दिए गए हैं।

इससे पहले भी बन चुकी है रेंज रोवर की कॉपी

इस कार के इंजन और पावरट्रेन की बात करें तो इसकी जानकारी अभी तक सामने नहीं आई है। कहा जा रहा है कि यह एक इलेक्ट्रिक गाड़ी है। कार के ड्राइवर डिस्प्ले पर एक दृश्यमान बैटरी एसओसी इंडीकेटर दिखने को मिलता है। ये पहली बार नहीं है कि चीनी ऑटोमोटिव बाजार में किसी कार के डिजाइन को कॉपी किया गया है। इससे पहले 2019 में भी रेंज रोवर की कॉपी बनाई थी। जिसका मामला कोर्ट तक गया था।

यह भी पढ़ें- Euro NCAP ने किया Maruti Swift का Crash Test, जानें कितनी है सुरक्षित