नई दिल्ली,ऑटो डेस्क। इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर निर्माता कंपनी एथर एनर्जी 2022 के अंत तक अपनी वार्षिक उत्पादन क्षमता को बढ़ाकर 4 लाख से 10 लाख इलेक्ट्रिक स्कूटर बनाने की योजना बना रही है। इसके साथ ही कंपनी ने पूरे भारत में 5000 फ़ास्ट चार्जर स्थापित करने एवं अपने नेटवर्क को बढ़ाने के लिए 600 स्टोर्स बनाने का लक्ष्य रखा है।

कंपनी का दावा

एथर एनर्जी के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी का कहना है कि एथर एनर्जी, राजस्व के हिसाब से भारत की शीर्ष इलेक्ट्रिक स्कूटर निर्माता कंपनी है, अगले तीन वर्षों में वार्षिक उत्पादन को एक मिलियन स्कूटर तक बढ़ाने के लिए धन जुटा रही है। एथर, टाइगर ग्लोबल और भारतीय बाइक निर्माता हीरो मोटोकॉर्प को निवेशकों के रूप में गिना जाता है। 2013 में अपनी स्थापना के बाद से लगभग 12 अरब रुपये (160 मिलियन डॉलर) जुटाए हैं और अधिक रेवेन्यू जुटाने के लिए निरंतर प्रयास कर रहे हैं।

भारत में ईवी बाजार का विस्तार

भारत में पिछले साल इलेक्ट्रिक स्कूटरों की बिक्री पांच गुना से अधिक बढ़ गयी है, क्योंकि पेट्रोल के लगातार बढ़ते दामों ने लोगो को विकल्प तलाशने के लिए मजबूर कर दिया है।

फिर भी इलेक्ट्रिक मॉडल 2021 में 14.5 मिलियन की कुल भारतीय मोटरसाइकिल और स्कूटर की बिक्री का सिर्फ 1प्रतिशत है। सरकार चाहती है कि यह आंकड़ा 2030 तक 40 फीसदी तक पहुंच जाए, क्योंकि वह अपने तेल आयात बिल को कम करने और प्रदूषण पर अंकुश लगाने की कोशिश कर रही है।

भारत में उभरते इलेक्ट्रिक वाहन बाजार के लिए सबसे बड़ी चुनौती सप्लाई चेन को बढ़ाना है। साथ ही आपूर्तिकर्ताओं को इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में समय से पहले निवेश करने के लिए राजी करना है। 

आपको बता दें कि एथर इस समय में एक महीने में लगभग 5,000 इलेक्ट्रिक स्कूटर बनाती है उसके साथ साथ अपना लिथियम-आयन बैटरी पैक बनाती है। कंपनी को उम्मीद है कि छोटे शहरों से मांग बढ़ने से 2022 में हर महीने 20,000 स्कूटर का उत्पादन होगा।

Edited By: Atul Yadav