नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। भारत सरकार लगातार इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा दे रही है। इसी कड़ी में कुछ महीने पहले ही इलेक्ट्रिक व्हीकल (Electric Vehicle) पर से GST की दर को 12 फीसद से घटा कर 5 फीसद किया गया था। दरअसल बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए सरकार की तरफ से लगातार पहल की जा रही है। इसी कड़ी में अब पाकिस्तान भी शामिल हो गया है। दरअसल हाल ही में पाकिस्तान सरकार की तरफ से एक कुछ ऐसे कदम उठाए गए हैं, जिसके बाद देश के कुल 30 फीसद वाहनों (चार पहिया और तीन पहिया वाहन) को इलेक्ट्रिक वाहनों में बदला जाएगा। यह फैसला बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए लिया गया है।

पाकिस्तान के प्रतिस्ठित डॉन न्यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक जलवायु परिवर्तन मामलों के मंत्री मलिक अमीन ने नेशनल इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी को लेकर मीडिया के सामने रोडमैप रखा। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि पाकिस्तान की सरकार का लक्ष्य देश के कुल 30 फीसद तीन पहिया और चार पहिया वाहनों को इलेक्ट्रिक गाड़ियों में बदलना है। रिपोर्ट के मुताबिक लोकल कार निर्माताओं ने इसको लेकर 90 फीसद तैयारी कर ली है।

रिपोर्ट में मंत्री मलिक अमीन के बयान का भी हलावा दिया गया है, जिसमें उनकी तरफ से कहा गया है कि विकसित देशों में कुल प्रदूषण का 20 फीसद हिस्सा वाहनों से होने वाले इमिशन का है। जबकि, पाकिस्तान में यह 40 फीसद है। इसके अलावा पाकिस्तान सरकार तेल के सालाना 2 अरब डॉलर के अयात को कम करना चाहती है, जिसमें यह प्रक्रिया काफी मदद कर सकती है। पाकिस्तान सरकार का मानना है कि इससे लोकल वाहन निर्माताओं को मदद मिलेगी और देश में रोजगार भी बढ़ेगा। दरअसल दुनिया भर में इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा दिया जा रहा है। वैसे तो इसके कई कारण हैं, लेकिन तेल पर निर्भरता और प्रदूषण यह दो ऐसे बड़े कारण है जिसके चलते मौजूदा समय में इलेक्ट्रिक वाहनों की मांग काफी बढ़ गई है।

Posted By: Shridhar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस