नई दिल्ली, अंकित दुबे। Renault Kwid को भारतीय बाजार में सबसे पहले साल 2015 में लॉन्च किया गया था और तब से ही यह कंपनी की सबसे ज्यादा बिकने वाली एंट्री हैचबैक है। तब से अब तक इस कार में कंपनी ने कई अपडेट्स किए हैं जिसमें इसके सेफ्टी फीचर्स भी शामिल थे और अब करीब 4 साल की यात्रा के बाद कंपनी ने इसे पूरी तरह अपडेट कर दिया है। जी हां, हम बात कर रहे हैं Renault Kwid के फेसलिफ्ट वेरिएंट की जिसे कंपनी ने पिछले साल लॉन्च किया था। हमने इस हैचबैक का मैनुअल RXT 1.0 वेरिएंट दिल्ली की सड़कों पर चलाया जिसके बाद ये गाड़ी हमें चलाने में कैसी लगी वो आपको बताएंगे ही, साथ ही यह भी बताएंगे कि पुराने मॉडल के मुकाबले अब नई Kwid में क्या कुछ बदलाव देखने को मिलते हैं।

डिजाइन में क्या हुए हैं बदलाव

नई अपडेटेड Renault Kwid को फ्रंट लुक से देखेंगे तो यह आपको पूरी तरह बदली हुई नजर आएगी और साथ ही यह एक छोटी एसयूवी की तरह भी नजर आती है। गाड़ी के हेडलैंप्स को अब ऊपर के बजाए नीचे की ओर कर दिया गया है। वहीं, इसके इंडीकेटर्स और टेटाइम रनिंग लाइट्स (DRLs) को स्लिम क्लस्टर के साथ टॉप पर रखा गया है। सबसे खास बात ये DRLs सभी वेरिएंट्स में स्टैंडर्ड मौजूद हैं।

ग्रिल पहले के मुकाबले ज्यादा चौड़ी नहीं दी है लेकिन यह Renault के बड़े लोगो के साथ काफी प्यारी लग रही है। साइड प्रोफाइल में आपको कोई बदलाव देखने को नहीं मिलता है। पर अगर आप रियर प्रोफाइल को देखते हैं तो यहां टेल लैंप्स अब LED दिए हैं और पार्किंग कैमरा को बड़े Renault लोगो के अंदर लगा दिया गया है।

इंटीरियर में क्या हुए हैं बदलाव?

Renault Kwid फेसलिफ्ट के इंटीरियर में काफी बदलाव देखने को मिलेंगे। हालांकि, इसका जो लेआउट है वो पूरी तरह पुराने वेरिएंट जैसा ही लगता है। डैशबोर्ड को थोड़ा सा बदला गया है। कंपनी ने अब टचस्क्रीन सिस्टम 8 इंच का दिया है और यह अब एंड्रॉयड ऑटो और एप्पल कारप्ले के साथ आता है। जबकि, प्री-फेसलिफ्ट Renault Kwid में यह 7-इंच स्क्रीन के साथ आता था। इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर भी पूरी तरह नया है और यह पूरी तरह डिजिटल है। AC वेंट्स पर भी कंपनी ने क्रोम की सराउंडिंग दी है। कुल मिलाकर यह अब अपमार्केट फील देती है और साथ ही मॉडर्न भी लगती है। सेफ्टी की बात करें तो यह स्टैंडर्ड ड्राइवर साइड एयरबैग्स के साथ आती है, लेकिन RXT वेरिएंट में आपको डुअल एयरबैग्स मिलते हैं।

चलाने के दौरान कैसी है परफॉर्मेंस?

कॉस्मैटिक बदलाव और फीचर्स अपग्रेड के अलावा कंपनी ने इसके इंजन में कोई बदलाव नहीं किया है। इसी वजह से चलाने के दौरान इसकी परफॉर्मेंस, कंफर्ट और संतुलन समान पुराने मॉडल जैसा ही है। कंपनी हमेशा से ही इसकी राइड क्वालिटी पर फोकस करती आई है, और इसमें दिया गया 1.0 लीटर इंजन 5500 rpm पर 68 bhp की पावर और 4250 rpm पर 91 Nm का टॉर्क जनरेट करता है। चलाने के दौरान यह आपको एक बेहतर परफॉर्मेंस देता है। वैसे ये वेरिएंट AMT ट्रांसमिशन के साथ भी आता है, अभी हम इसका मैनुअल वेरिएंट चला रहे हैं तो बात मैनुअल की ही करेंगे। शुरुआती रिस्पांस काफी अच्छा है और इसका क्लच भी काफी Light है, जिसके चलते बंपर टू बंपर ट्रैफिक में आपको इसे चलाने में काफी आसानी होती है। गियर शिफ्ट करने में भी कोई दिक्कत सामने नहीं आती, लेकिन हाई रेव्स पर जैसे ही आप इसमें स्पीड बढ़ाने की कोशिश करते हैं, तो इंजन शोर सुनाई देता है। फेसलिप्ट मॉडल के हिसाब से कंपनी इसके NVH लेवेल्स में थोड़ा और सुधार कर सकती थी। सस्पेंशन सेटअप पुराने मॉडल जैसे ही हैं और ये छोटे-मोटे गढ्ढों पर काफी अच्छा काम करते हैं। ब्रेकिंग की बात करें तो ये भी काफी अच्छी तरह से काम करते हैं। कुल मिलाकर आपको इसे चलाने के दौरान काफी मजा आता है। माइलेज की बात करें तो इसने सिटी ड्राइविंग में हमे 17-18 kmpl और हाईवे पर 20-21 kmpl तक का माइलेज दी है।

हमारा फैसला

भारतीय बाजार में Renault Kwid RXT 1.0 की कीमत 4.33 लाख रुपये है। वहीं, इसके Kwid RXT 1.0 L (O) वेरिएंट की कीमत 4.41 लाख रुपये है। लेकिन, अगर आप Renault Kwid STD 0.8 की शुरुआती कीमत की बात करते हैं तो यह 2.83 लाख रुपये है, जो कि Renault Kwid CLIMBER (O) AMT 4.92 लाख रुपये तक जाती है। ये सभी कीमतें एक्स शोरूम हैं। रेनो क्विड प्रासंगिक, विश्वसनीय और सक्षम रहने के लिए हमेशा पर्याप्त रही है और इसकी कीमत भी काफी अच्छी बनी हुई है। बाजार में अगर आप एक एंट्री लेवल हैचबैक की तलाश कर रहे हैं तो आप इसका चुनाव कर सकते हैं। 

Posted By: Ankit Dubey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस