नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। Renault Triber : भारत में आज भी बहुत से लोगों का खुद के कार में बैठने का सपना है। लोग आम जिंदगी की जरूरतों को पूरा करते हुए अपने सपने को भूल जाते हैं और नई कार नहीं खरीद पाते हैं। हालांकि बीते कुछ समय से सेकेंड हैंड कार मार्केट में लोग खूब दिलचस्पी ले रहे हैं। यूज्ड कार खरीदने वाले ग्राहकों के लिए एक विकल्प है, रेनॉ ट्राइबर एमपीवी (Renault Triber MPV), जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। अपने इस लेख में आपको बताएंगे इस कार के फायदे और नुकसान: 

Renault Triber खरीदनें के फायदे

ट्राइबर के बारे में पसंद करने के लिए बहुत कुछ है, क्योंकि यह एक परिवार के लिए बिल्कुल फीट बैठता है और इसमें ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन भी मिलता है, इस कार को काफी स्मार्ट तरीके से बनाया गया है और इसमें एक परिवार को बैठने के लिए काफी स्पेस दिया गया है। वहीं इसके व्हीलबेस की बात करें, तो यह Duster से भी लंबा है, जिससे रियर सीट के लिए खासा स्पेस ​बन जाता है। कार के इंटिरियर को इसमें बैठने वाले लोगों के कम्फर्ट के हिसाब से बनाया गया है, जो किसी भी ट्रीप को खास बनाता है। इसमें दो ग्लव-बॉक्स, बड़ी बोतल रखने के लिए सामने की तरफ बड़े बोतल होल्डर और फ्रंट सेंट्रल कंसोल पर टू-डेक स्टोरेज भी है। इसके साथ ही इसमें स्टीयरिंग माउंटेड कंट्रोल्स, टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम जैसे अच्छे फीचर्स भी मिलते हैं

क्या हैं यूज्ड Renault Triber के नुकसान

Renault Triber में 1-लीटर पेट्रोल इंजन है, जो 70 बीएचपी की पॉवर देता है, इससे नुकसान ये है कि जब भी आप कार ड्राइव करते हैं और किसी अन्य वाहनों को ओवरटेक करने की सोचतें हैं तो, ये थोड़ा झंझट भरा होता है,क्योंकि पॉवर को पहिए तक पहुंचने में थोड़ा से अधिक समय लगता है। वहीं Triber का इंजन थोड़ा लाउड है और 3000rpm से ऊपर जब भी कार जाती है, तो इसकी आवाज में गति साफतौर सुनाई देता है, जो सुनने में उतना अच्छा नहीं लगता है। 

Edited By: Bhavana