नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। बीते दिनों से इलेक्ट्रिक स्कूटर्स में लगने वाली आग की खबर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। पिछले कुछ दिनों में कई बड़ी कंपनियों की दोपहिया इलेक्ट्रिक वाहनों में आग लगने की घटनाएं सामने आई है। कम से कम चार घटनाएं हुई हैं, जहां ईवी में अचानक आग लग गई, जिससे ऐसे वाहनों से संबंधित सुरक्षा के मुद्दे एकबार फिर चर्चा का विषय बन गए हैं। इस खबर में आपको बताने जा रहें इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लगने की वजहों के बारे में और साथ ही इससे बचने के तरीके के भी बारे में बताएंगे।

Safety Tips and Tricks of Electric Vehicle- इलेक्ट्रिक फायर केस

हाल ही में इलेक्ट्रिक स्कूटर निर्माता कंपनी ओकिनावा ऑटोटेक (Okinawa Autotech) के तमिलनाडु स्थित एक डीलरशिप में अचानक आग लग गई। बताया जा रहा है कि इस घटना में पूरी डीलरशिप जलकर खाक हो गई है, हालांकि, किसी व्यक्ति के हताहत होने के समाचार नहीं है. स्थानीय लोगों की मदद से आग पर काबू पाया जा सका। वहीं चेन्नई में एक ई-स्कूटर धूं-धूं कर जलने लगी थी। बता दें, चेन्नई में इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लगने वाली घटना पहली नहीं है, कुछ दिनों पहले ही ओला इलेक्ट्रिक स्कूटर में अचानक आग लगने की घटना सामने आई थी, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

इसके पहले तमिलनाडु से एक दर्दनाक घटना सामने आई थी, जब घर में खड़े एक इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लगने से बाप और उसकी बेटी की मौत हो गई थी। हालांकि, कई घटनाओं के होने के बाद अब सरकार ने भी इस पर कड़ा संज्ञान लिया है। वहीं ओला ईवी ने भी स्टेटमेंट जारी करके बताया था कि उनकी टीम मामले की जांच कर रही हैं।

EV fire case- इन वजहों से ईवी में लगती है आग

भारत में इलेक्ट्रिक स्कूटरों के बढ़ते बाजार के आकार को देखते हुए तीन स्कूटर में आग लगना सोचने का विषय है। दरअसल, प्योर ईवी और ओकिनावा जिनके ई-स्कूटर में पिछले समय में आग लगी है, दोनों कंपनियों ने आश्वासन दिया है कि वे घटनाओं की जांच कर रहे हैं। फिलहाल इस बात से भी नकारा नहीं जा सकता कि ईवी में आग लगने का मुख्य कारण बैटरी हैं। कुछ कंपनियों का कहना है कि उसके स्कूटर में आग वाहन को चार्ज करने में लापरवाही के कारण शार्ट सर्कट से हुई है। विशेषज्ञों की मानें तो इसके कई कारण हो सकते हैं जैसे कि विनिर्माण दोष, बाहरी क्षति या बीएमएस (BMS) में तैनाती में खराबी।

बैटरी में आग लगना ऑटो उद्योग के लिए कोई नई बात नहीं है, लेकिन आग के सही मूल कारण का पता लगाना बहुत मुश्किल रहा है। क्योंकि इन वाहनों में एक साधारण शॉर्ट सर्किट से भी आग लग सकती है। हालांकि ICE वाहन के विपरीत, EVs बड़ी और हैवी लिथियम आयन बैटरी का उपयोग करते हैं। जिनमें आग लगने का खतरा बना रहता है, हालांकि ऐसा सिर्फ तब होता है, जब बैटरी या तो सही तरीके से निर्मित ना हो या वह क्षतिग्रस्त हो गई हैं। इसके अलावा बैटरी को संचालित करने वाला सॉफ़्टवेयर को सही तरह से डिज़ाइन नहीं किया गया हो।

इन टिप्स को फॉलो करके टाल सकते हैं खतरा

  • आप अपने व्हीकल या बैटरी को कभी भी कड़ी धूप में न रखें।
  • गाड़ी की बैटरी जैसे ही फुल चार्ज हो जाए, उसे प्लग आउट कर दें।
  • कंपनी फिटेड बैटरी यूज करें।
  • सस्ती और लोकल बैटरी का इस्तेमाल करने की भूल बिल्कुल न करें।
  • ईवी चार्ज करने के लिए कंपनी के ओरिजनल चार्जिंग केबल का यूज करें।
  • लंबे सफर के तुरंत बाद बैटरी चार्ज करने से बचें।
  • डैमेज बैटरी यूज करने से बचनें।
  • बैटरी हीट होने पर उसे तुरंत बदल दें।

Edited By: Atul Yadav