PreviousNext

बंगाल के विकास में आड़े नहीं आएगी राजनीति : जेटली

Publish Date:Mon, 24 Aug 2015 03:41 AM (IST) | Updated Date:Mon, 24 Aug 2015 03:48 AM (IST)
बंगाल के विकास में आड़े नहीं आएगी राजनीति : जेटली
केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि भाजपा व तृणमूल कांग्रेस के बीच मतभेद पश्चिम बंगाल के विकास के आड़े नहीं आएंगे। केंद्रीय वित्त मंत्री ने रविवार को साइंस सिटी में निजी

जागरण संवाददाता, कोलकाता। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि भाजपा व तृणमूल कांग्रेस के बीच मतभेद पश्चिम बंगाल के विकास के आड़े नहीं आएंगे। केंद्रीय वित्त मंत्री ने रविवार को साइंस सिटी में आयोजित समारोह के दौरान निजी बैंक बंधन बैंक के औपचारिक रूप से उद्घाटन के मौके पर उक्त बातें कहीं।

उन्होंने कहा कि जिस पार्टी से मैं हूं और राज्य में जो पार्टी सत्ता में है, दोनों एक-दूसरी की सख्त विरोधी हैं और संभवत: यह जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि जहां तक देश और राज्य के विकास का सवाल है, तो दोनों के बीच राजनीतिक मतभेद महत्व नहीं रखते हैं। हम पश्चिम बंगाल के विकास और वृद्धि में पूरा सहयोग करेंगे। वित्त मंत्री ने कहा कि पूर्व की कुछ पुरातनपंथी नीतियों से हटना और इस क्षेत्र में क्षमता का दोहन करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य अधिक उंची वृद्धि दर के लिए आपस में सहयोग कर रहे हैं और इससे अंतत: राज्य में समृद्धि आएगी।

नीले रंग में रंगे शहर ने दिया नए संस्थान को जन्म

कोलकाता। इस अवसर पर जेटली ने ममता बनर्जी के नील-सफेद रंग की ओर इशारा करते हुए कहा कि नीले रंग में रंगे शहर ने आज एक नए संस्थान को जन्म दिया है। प्रदेश में इससे पहले पिछले वाम दलों के लंबे शासनकाल की ओर संकेत करते हुए जेटली ने कहा कि उस समय जब यह शहर लाल रंग में रंगा था, तब ऐसा नहीं होता था। जब शहर लाल रंग में रंगा था, तो किसी नए संस्थान का जन्म नहीं हुआ, बल्कि यहां पहले से चल रही इकाइयां बाहर चली गईं। अब नीले रंग में रंगे इस शहर में एक नए संस्थान का जन्म हुआ है, जो एक बांग्ला-उद्यमी के जन्म लेने का संकेतक है। वित्तमंत्री ने कहा कि बंगाल ने कई महान बुद्धिजीवियों को जन्म दिया। इसमें इसकी अलग प्रसिद्धि है। बंधन बैंक के उद्भव से बांग्ला-उद्यमी की शुरूआत हो गई है।

पूर्वी राज्यों के विकास पर है ध्यान : जेटली

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सरकार पूर्वी राज्यों के विकास पर ध्यान देगी और पश्चिम बंगाल के उद्योग को प्रोत्साहन दिया जाएगा। पूर्वी क्षेत्र के विकास से देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में आठ से 10 फीसद वृद्धि की संभावना है। पश्चिम बंगाल में होने वाले निवेश को प्रोत्साहन दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर भारत में तेल एवं पेट्रोलियम का बड़ा भंडार है, जबकि पश्चिम बंगाल और ओडिशा में विशाल खनिज भंडार मौजूद है। उन्होंने कहा कि वे पश्चिम बंगाल में उद्यमिता की भावना में फिर से आ रही तेजी को लेकर आशान्वित हैं।

इस अवसर पर बंधन बैंक प्रबंध निदेशक व सीईओ चंद्रशेखर घोष ने कहा है कि बैंक की प्राथमिकता लघु एवं मझोले उद्यम होंगे। उन्होंने कहा कि यह देश एवं राज्य की सेवा के क्षेत्र में उल्लेखनीय पहल है।

पश्चिम बंगाल में बंधन फाइनेंशियल सर्विसेज का बैंक शुरू हो गया है। यह देश का नया पूर्ण सेवा बैंक है। बंधन बैंक ने आज देशभर में 501 शाखाओं के साथ अपने परिचालन का शुभारंभ किया। जून में सूक्ष्म वित्त संस्थान बंधन को वाणिज्यिक बैंक परिचालन शुरू करने के लिए रिजर्व बैंक से अंतिम मंजूरी मिली थी। इस बैंक के 2022 सर्विस सेंटर, 50 एटीएम और 19,500 कर्मचारी हैं। वित्त वर्ष 2016 के अंत तक शाखाओं की संख्या 632 और एटीएम की संख्या 250 करने की योजना है।

बैंक के उद्घाटन अवसर पर राज्य के वित्तमंत्री डॉ अमित मित्रा, रिजर्ब बैंक ऑफ इंडिया के डिप्टी गवर्नर एचआर खान, बैंक के संस्थापक, प्रबंध निदेशक व मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंद्रशेखर घोष, चेयरमैन डा. अशोक कुमार लाहिड़ी उपस्थित थे।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Bengal's development will not interfere in politics: Jaitley(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

ममता ने दी आंदोलन की चेतावनीनीतीश के साथ बिहार में मंच साझा करेंगी ममता
यह भी देखें