PreviousNext

अब पिरुल से बनेगा तारपिन तेल, कचरे से होगा बायोफ्यूल तैयार

Publish Date:Wed, 13 Sep 2017 05:40 PM (IST) | Updated Date:Wed, 13 Sep 2017 09:05 PM (IST)
अब पिरुल से बनेगा तारपिन तेल, कचरे से होगा बायोफ्यूल तैयारअब पिरुल से बनेगा तारपिन तेल, कचरे से होगा बायोफ्यूल तैयार
उत्तराखंड में अब पिरुल से तारपिन का तेल और उसके कचरे से बायोफ्यूल बनाया जाएगा। इसके लिए जल्द ही सरकार और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पेट्रोलियम एमओयू साइन करेगा।

देहरादून, [जेएनएन]: उत्तराखंड सरकार और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पेट्रोलियम (आईआईपी) के बीच पिरुल से तारपिन आॉयल और उसके कचरे से बायोफ्यूल तैयार करने की सहमति बनी है। इसके लिे जल्द ही दोनों के बीच एमओयू साइन होगा। 

राज्य के आठ पहाड़ी जिलों अल्मोड़ा, चमोली, नैनीताल, पौड़ी, रूद्रप्रयाग, पिथौरागढ़, टिहरी और उत्तरकाशी में पिरुल के कलेक्शन सेंटर स्थापित किए जाएंगे। पिरुल एकत्रित करने वालों को इंसेटिव भी दिया जाएगा। इसके लिए आधुनिक तकनीकि का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके बाद ऑयल और बायोफ्यूल का औद्योगिक क्षेत्र में भी प्रयोग किया जा सकेगा। 

इस दौरान सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि यह वेस्ट को बेस्ट में परिवर्तित करने की एक कोशिश है। इससे गर्मियों में पिरुल के जंगलों में वनाग्नि से बचाव होगा। साथ ही जंगल और जीव जंतुओं का भी संरक्षण हो सकेगा। उन्होंने कहा कि प्रथम चरण में हर दिन 40 टन पाइन निडिल की आवश्यकता पड़ेगी। जिसे पंचायतों और गांवों से खरीदा जाएगा। इससे जहां सरकार को राजस्व प्राप्त होगा, वहीं स्थानीय लोगों को बेहतर रोजगार भी मिलेगा। वहीं उद्योगपति श्री महेश मर्चेंट ने बताया कि इसके लिए शीशमबाड़ा में प्लांट बनाना प्रस्तावित है। 

यह भी पढ़ें: पिरुल बनेगा किसानों के लिए वरदान, जैविक खाद मानकों पर उतरी खरी

यह भी पढ़ें: एक फूल ही निगल रहा है विश्व धरोहर फूलों की घाटी को

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड का यह कस्‍बा इनर लाइन से मुक्‍त, अब आ सकेंगे विदेशी 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Now Tarpin oil will be made from Pirul(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

खुशखबरी: अब सेवानिवृत्ति के माह का भी मिलेगा वेतन'हालात सुधरने तक रोहिंग्या मुसलमानों को मिले भारत में शरण'
यह भी देखें