PreviousNext

प्रदर्शनी में दिखी हाथों की कला

Publish Date:Sun, 25 Mar 2012 09:53 PM (IST) | Updated Date:Mon, 26 Mar 2012 12:42 AM (IST)
प्रदर्शनी में दिखी हाथों की कला

टनकपुर, जागरण कार्यालय: भारत सरकार वस्त्र मंत्रालय के सौजन्य व उद्योग निदेशालय देहरादून के तत्वावधान पुरानी तहसील परिसर में लगी दस दिवसीय हथकरघा प्रदर्शनी का रविवार को समापन हो गया।

पूर्णागिर मेला क्षेत्र में पुरानी तहसील परिसर में दस दिनों तक लगी प्रदर्शनी में काशीपुर की प्रिंटेड चादरें, ड्रेस मैटेरियल, कुशन कवर, सोफा कवर, लेडीज सूट, वुड क्राफ्ट, हर्बल, जडी बूटी दवाईयों आदि स्टालों में लोगों द्वारा जमकर खरीददारी की गई। दस दिनों तक चली प्रदर्शनी का समापन पालिकाध्यक्ष हर्षवर्धन सिंह रावत ने किया। उन्होंने कहा कि पूर्णागिरि मेले के मद्देनजर हथकरघा प्रदर्शनी की समयावधि क ो बढ़ाया जाना चाहिये। जिससे मेले में आने वाले तीर्थयात्रियों व क्षेत्र के लोगों का इसका लाभ मिल सके। उन्होंने प्रदर्शनी में लगे स्टालों में लगे उत्पादों को भी देखा। सहायक निदेशक व नोडल अधिकारी फतेह बहादुर सिंह ने बताया कि 15 मार्च से लगी दस दिनी प्रदर्शनी में विभिन्न उत्पादों की लगभग 38 लाख रुपये की बिक्री हुई। इस मौके पर उद्योग विभाग के महाप्रबंधक विमल चौधरी, सहायक प्रबंधक जीबी जोशी, डीएन जोशी, बचन पाल सिंह आदि मौजूद थे।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
    Web Title:(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

    कमेंट करें

    रंगारंग कार्यक्रमों के साथ एनएसएस शिविर शुरू15 हजार श्रद्धालु पहुंचे मां के द्वार
    यह भी देखें

    संबंधित ख़बरें

    • अक्षय और उनकी सासू मां का मज़ाकिया अंदाज़!

      अक्षय कुमार और उनकी सास डिंपल कपाड़िया ने किया मराठी फिल्म ‘कौल मनाचा’ का म्युजिक लॉन्च। इस मौके पर देखिए कैसे सबके सामने नज़र आई उनकी मज़ाक-मस्ती...

    • दुनिया का सबसे लंबा पर्व बस्तर दशहरा आज से शुरू

      विश्व प्रसिद्घ 75 दिवसीय बस्तर दशहरा का पाटजात्रा के साथ शुभारंभ हो गया। छत्तीसगढ़ का बस्तर दशहरा दुनिया में सबसे लंबे अवधि तक मनाया जाने वाला पर्व है

    • कला प्रदर्शनी

      भारत में नई दिल्ली में शुक्रवार, 31 जनवरी को आयोजित छठे भारतीय कला प्रदर्शनी के दौरान कलाकार चिंतन उपाध्याय की कलाकृति को डिसप्ले के लिए रखा गया।