PreviousNext

तो ये है वो पवित्र जगह, जहां भगवान शिव ने मां पार्वती के साथ लिए थे सात फेरे

Publish Date:Thu, 23 Feb 2017 03:55 PM (IST) | Updated Date:Thu, 23 Feb 2017 07:01 PM (IST)
तो ये है वो पवित्र जगह, जहां भगवान शिव ने मां पार्वती के साथ लिए थे सात फेरेतो ये है वो पवित्र जगह, जहां भगवान शिव ने मां पार्वती के साथ लिए थे सात फेरे
ऐसा माना जाता है कि इससे वैवाह‌िक जीवन में आने वाली सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं। यहां विवाह करना भी शुभ माना जाता है।

भोले के भक्तों के लिए महाशिवरात्रि एक महापर्व है, इसे भगवान शिव और मां पार्वती के विवाह के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। मगर क्या आप जानते हैं कि कहां हुआ था दोनों का विवाह? अगर नहीं तो चलिए आपको उस जगह ले चलते हैं, जिसके बारे में कहा जाता है कि यहीं शिव ने पार्वती से विवाह रचाया था।

जी हां, अब वैसे तो शिव रहते थे कैलाश पर्वत पर, मगर उनका विवाह उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग ज‌िले के त्र‌िर्युगी नारायण गांव में हुआ था। हालांकि अब उस जगह पर मंदिर है, जिसे त्र‌िर्युगी नारायण मंदिर कहते हैं।

इतना ही नहीं, शिव और पार्वती ने जिस अग्नि कुंड के सात फेरे लिए थे, वो अभी तक प्रज्जवलित है। ऐसा कहा जाता है और यहां प्रसाद रूप में लकड़ियां चढ़ाई जाती हैं।

भक्त इस कुंड की राख को घर ले जाते हैं, ऐसा माना जाता है कि इससे वैवाह‌िक जीवन में आने वाली सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं।

महाशिवरात्रि के दिन घर में करें ये उपाय, भगवान शिव जरूर होंगे प्रसन्न

कहा जाता है ब्रह्मा जी ने शिव और पार्वती का विवाह कराया था और उस दौरान दोनों जिस जगह पर ही बैठे थे, वो ये है। इस जगह को भी पूजा जाता है।

विवाह से पूर्व ब्रह्मा जी ने जिस कुंड में स्नान किया था, इसलिए उसका नाम ब्रह्मकुंड पड़ गया। कहते हैं कि उसमें स्नान करने से ब्रह्मा जी का आशीर्वाद प्राप्त होता है। ये है वो कुंड।

शिव-पार्वती के विवाह में भगवान विष्णु भी उपस्थित थे, उन्होंने पार्वती के भाई की भूमिका निभाई थी और विवाह से पहले उन्होंने इस कुंड में स्नान किया था।

महाशिवरात्रि पर भगवान शिव की पूजा करते समय भूलकर भी ना करें ये गलतियां

वहीं विवाह में शामिल हुए अन्य देवताओं में जिस कुंड में स्नान किया था, उसे रुद्र कुंड कहते हैं। ये रहा वो कुंड आपके सामने।

और चलते-चलते आपको शिव और पार्वती के विवाह से जुड़ा एक रोचक बात बताते चलते हैं, कहा जाता है कि शिव को विवाह में गाय मिली थी, जिसे इस स्तंभ पर बांधा गया था।

महाशिवरात्रि व्रत रखने पर नहीं महसूस होगी सुस्ती, इन चीजों को खाने से मिलेगी फुर्ती

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:This is the place where lord shiva and parvati got married online hindi news(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

हवा में 8, 500 फीट की ऊंचाई पर यहां है दुनिया का सबसे खतरनाक टॉयलेटये है देश का सबसे छोटा हिल स्‍टेशन, खतरनाक खाई से गुजरती है ट्रेन तो थम जाती हैं सांसे
यह भी देखें

जनमत

पूर्ण पोल देखें »