PreviousNext

वास्तु के अनुसार घर में रसोई कक्ष की स्थिति क्या हो

Publish Date:Wed, 15 Mar 2017 04:31 PM (IST) | Updated Date:Thu, 16 Mar 2017 10:11 AM (IST)
वास्तु के अनुसार घर में रसोई कक्ष की स्थिति क्या होवास्तु के अनुसार घर में रसोई कक्ष की स्थिति क्या हो
रसोईकक्ष की दीवारों का रंग-रोगन भी व्यक्ति को प्रभावित करता है। अंतः इस कक्ष की दीवारों तथा छत का रंग हलका नीला भूरा या ग्रे होना चाहिए।

 रसोईघर का शुभ-अशुभ होना बहुत कुछ उसके द्वार व खिड़कियों की स्थिति पर भी निर्भर करता है। वास्तु नियमों के अनुसार रसोई कक्ष का प्रवेशद्वार पूरब, पश्चिम या उत्तर में से किसी भी दिशा में रखा जा सकता है। दक्षिण दिशा में रसोई का प्रवेश द्वार नहीं होना चाहिए। इस ओर दरवाजा रखने पर हमेशा संघर्ष होता रहेगा और मुसीबतें झेलनी पड़ेगी, साथ ही साथ इस दिशा में खुलने वाले दरवाजे युक्त रसोई में खाने वालों को तृप्ति नहीं मिलती। इतना किया जा सकता है कि समानाँतर स्लैब वाले रसोईघर में आग्नेयकोण की तरफ एक अतिरिक्त दरवाजा हो जिसका निकास डाइनिंग हाँल -भोजनकक्ष-की ओर हो। रसोईकक्ष ठीक प्रवेशद्वार के सामने भी शुभ नहीं माना जाता।

रसोईघर के कमरे में उत्तर और पूरब की ओर खिड़कियों का होना जरूरी है, जिससे सूर्य किरणों का लाभ मिलता रहे। दक्षिण में खिड़की नहीं होनी चाहिए। यदि दक्षिण में खिड़कियां रखना अनिवार्य हो तो कम से कम संख्या में छोटी खिड़कियाँ बनाई जा सकती है। रसोई में आमने सामने खिड़कियों को होना अधिक अच्छा होता है। इससे आसानी से अशुद्ध वायु बाहर निकलती एवं शुद्ध वायु भीतर प्रवेश करती रहती है। ड्राइंगरूम बैठक की खिड़की के ठीक सामने रसोई की खिड़की नही रखनी चाहिए। रोशनदान या धुँआ निकलने की चिमनी ईशानकोण में स्थापित की जा सकती है। इसी तरह रसोईकक्ष में उत्तर या पूरब दिशा में एक एक्जास्टफैन अवश्य लगाना चाहिए, जिससे दूषित वायु बाहर निकलती रहे और खाना बनाने वाले के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव न पड़े। एक्जास्ट फेन चूल्हे की लपट भभककर ऊपर उठ सकती है और भोजन बनाने वाले को हानि पहुँचा सकती है। अतः इसे दरवाजे के पास या चूल्हे से हटकर दीवार में ऊपर लगाना चाहिए।
रसोईकक्ष में सामान रखने के लिए टाँड आदि यों तो आवश्यकतानुसार चारों ओर की दीवारों पर बनाए जा सकते हैं, किंतु उसे दक्षिणी एवं पश्चिमी दीवार में बनाना सबसे उपयुक्त माना गया है। मात्र पूर्वी तथा उत्तरी दीवारों पर टाँड नहीं बनाना चाहिए। वास्तुदोष होने के कारण इससे कई प्रकार की हानियाँ होती हैं। इसी तरह उत्तर -पश्चिम की ओर बरतन आदि रखने की आलमारी बनाई जा सकती है। स्लैब या गैस पट्टी के ऊपर विशेषकर चूल्हे के ऊपर कोई रैक या आलमारी नहीं रखनी चाहिए। इससे सामान निकालते समय बरतन आदि गिरने और दुर्घटना घटित होने की सदैव आशंका बनी रहती है।
रसोईघर में यदि फ्रिज या रेफ्रिजरेटर रखना हो तो इसे आग्नेयकोण, दक्षिण , उत्तर, पश्चिम दिशा या वायव्यकोण में स्थापित किया जा सकता है। ईशान एवं नैऋत्य कोण में इन्हें कदापि नहीं रखना चाहिए अन्यथा ये बराबर खराब होते रहेंगे। यदि इन कोनों में रखना ही पड़े तो इन्हें कोनों से दो तीन फीट के अंतर से रखना चाहिए । माइक्रोओवन , मिक्सी ग्राइंडर आदि की व्यवस्था दक्षिण व आग्नेयकोण के बीच की जा सकती है। हलका सामान पूरब अथवा उत्तर में तथा भारी सामान पश्चिम या दक्षिण में रखे जाने चाहिए। सिल-बट्टा, मूसल, झाडू व इस तरह के दैनिक उपयोग की अन्य वस्तुएँ नऋत्य कोण में रखनी चाहिए।किंतु भूलकर भी इन्हें ईशानकोण में नहीं रखना चाहिए। इसी तरह ओखल, चक्की आदि भारी वस्तुएँ दक्षिण तथा नैऋत्यकोण में या संबंधित कमरों में सुविधानुसार इन्हीं दिशाओं में रखी जा सकती है।उत्तर पश्चिम की ओर या नैऋत्य कोण में रसोई का छोटा सा स्टोर रूम बनाया जा सकता है जहाँ चावल, दाल, गेहूँ, आटा आदि का भंडारण किया जा सकता है। अन्नादि के भारी डिब्बे कभी नहीं रखने चाहिए। उनमें कुछ-न-कुछ दो चार दाने अवश्य पड़े रहने चाहिए। इससे घर में अन्न आदि की कम नहीं होने पाती। ईशान और आग्नेयकोण की मध्य पूर्वी दीवार के सहारे खाद्य भंडार करना भी उपयुक्त रहता है।
दूध दही धी तेल मथानी आदि का प्रबंध प्राचीनकाल में अलग कमरे में रसोईकक्ष के समीप पूरब-आग्नेय दिशा में किया जाता था।किंतु आजकल इन्हें रसोईघर में ही रखा जाता है। ऐसी दशा में दूध -दही सदैव उत्तर पूर्व में रखने चाहिए। छाछ या मक्खन निकालने की रई या मथानी का प्रबंध भी यदि रसोई में ही करना हो तो पूर्वी दीवार से सटाए बिना पूरब व आग्नेयकोण के बीच खूँटी गाड़कर अथवा दीवार में कीलें या हुक गाड़कर किया जा सकता है। इस प्रकार बिलोने वाले का मुँह पूरब की ओर रहेगा जो कि शुभ दिशा है।
रसोईकक्ष से संबंधित कुछ छोटी छोटी बातें और भी हैं जिन्हें यदि ध्यान में रखा जाए तो घर का वातावरण सुख शाँतिमय बना रहता है। तथा समृद्धि के नए स्त्रोत हाथ लगते हैं। उदाहरण के लिए आग्नेयकोण में बने रसोईकक्ष के ऊपर पानी की टंकी कभी भी नहीं बनानी चाहिए। ऐसा करने पर स्वास्थ्य संकट का खतरा मँडराता रहता है। स्नानघर एवं रसोईघर अथवा डाइनिंग हाँल एवं बाथरुम आमने सामने नहीं होने चाहिए और न इनकी खिड़कियाँ ही एक दूसरे के सामने पड़े। रसोईकक्ष में या उसके सामने मेकअप रूप अर्थात् प्रसाधन कक्ष नहीं होना चाहिए। इससे बीमारियों के संक्रमण का भय बना रहता है। पूजाकक्ष, शयनकक्ष एवं शौचालय के सामने या ऊपर रसोईकक्ष नहीं बनाना चाहिए। रसोई में गैसपट्टी अथवा सिंक के नीचे पूजास्थल भी नहीं बनाना चाहिए। स्थानाभाव या अन्य किन्हीं आवश्यक कारणों से रसोईघर में पूजास्थली बनानी ही पड़े तो उसे उसी कक्ष के ईशानकोण में अथवा पूरब में, पश्चिम में या वायव्य में स्थापित करना चाहिए। उत्तर दक्षिण एवं नैऋत्य में पूजास्थल नहीं बनाए जाते ।
रसोईकक्ष की दीवारों का रंग-रोगन भी व्यक्ति को प्रभावित करता है। अंतः इस कक्ष की दीवारों तथा छत का रंग हलका नीला भूरा या ग्रे होना चाहिए। लाल रंग तो भूलकर भी न कराएँ । पीला रंग भी रसोई के लिए उपयुक्त नहीं माना जाता। रसोईकक्ष के फर्श की सतह अन्य कमरों की सतह की अपेक्षा कुछ ऊँची रखना शुभ दायक माना जाता है। प्रायः लाग रसोईघर भोजनकक्ष एवं ड्राइगरुम अर्थात् अतिथि कक्ष आदि के फर्श की सतह अन्य कमरों की सतह से नीची रखते है। वास्तु नियमों के अनुसार ऐसा करना हानिकारक होता है, क्योंकि नैऋत्य वायव्य आग्नेय दक्षिण एवं पश्चिम दिशा में कोई भी कमरा नीची सतह वाला नहीं होना चाहिए। जहाँ तक हो सके सभी कमरों को उत्तर या पूरब की ओर ढलान लिए हुए समान तल वाला बनाना चाहिएं । पश्चिम या दक्षिण की तरफ भवन के फर्श का ढलान नहीं रखा जाता, ऐसा नियम है।
प्राचीन भारतीय परंपरा रही है कि परिवार के सभी सदस्य एवं अतिथि भोजनकक्ष में ही बैठकर भोजन करते थे। वास्तुशास्त्र में उल्लेख भी है - भोजन पश्चिमायाँ च वायव्याँ धन संचयम्। अर्थात् भोजनकक्ष पश्चिम दिशा में तथा धनसंग्रह कक्ष वायव्यकोण में होना चाहिए, किंतु आज के बदलते परिवेश में भोजनकक्ष का स्थान ‘डाइनिंग हाँल-ड्राइंगरुम ने ले लिया है।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:According to Vastu what is the status of the kitchen room at home(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

जहां बैचेनी, अशांति, तनाव अपने आप ही मिट जाता हैवास्तु विज्ञान में इस उपाय को अनेक वास्तु दोषों को काटने का रामबाण इलाज कहते हैं
यह भी देखें

जनमत

पूर्ण पोल देखें »