PreviousNext

महाशिवरात्रि के दिन ऐसा जरूर करें इससे जिंदगी में शांति और खुशियों का आगमन होगा

Publish Date:Tue, 21 Feb 2017 02:47 PM (IST) | Updated Date:Thu, 23 Feb 2017 09:56 AM (IST)
महाशिवरात्रि के दिन ऐसा जरूर करें इससे जिंदगी में शांति और खुशियों का आगमन होगामहाशिवरात्रि के दिन ऐसा जरूर करें इससे जिंदगी में शांति और खुशियों का आगमन होगा
ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव पावर्ती के बिना निर्गुण हैं। उनको सगुण बनने के लिए पार्वती की शक्तियों और साथ ही जरूरत रहती है।

भगवान शिव हिंदुओं के प्रमुख देवताओं में से एक हैं, जिन्हें हिंदू बड़ी ही आस्था और श्रद्धा के साथ स्वीकारते और पूजते हैं। विक्रम संवत के अनुसार, महाशिवरात्रि फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की हर चतुर्दशी को मनाई जाती है। फरवरी—मार्च के महीने में पड़ने पाला यह महापर्व इस बार 24 फरवरी को मनाया जाएगा। आइए जानते हैं महाशिवरात्रि से जुड़े कुछ अहम तथ्य...

महाशिवरात्रि के दिन सामूहिक तौर पर रुद्राभिषेक करना चाहिए ताकि हमारे सारे पाप कट सकें और जिंदगी में शांति और खुशियों का आगमन हो। देवाधिदेव शिव को अहं का नाशक माना जाता है और हमें अतीत में किए गए उन नकारात्मक कामों से मुक्ति मिलती है जो हमें हमारी असली शक्ति से दूर रखते हैं। महाशिवरात्रि के दिन हमें अपनी शक्तियों का बोध होता है। महाशिवरात्रि को दुनियाभर में शिव के सम्मान में मनाया जाता है।

ऐसी मान्यता है कि इस रोज शिव और पार्वती का विवाह हुआ था। ऐसा माना जाता है कि महाशिवरात्रि पर भगवान शिव लिंगोदभव मूर्ति की शक्ल में देर रात प्रकट होते हैं। इस रात हर तीन घंटे पर पंडित मंत्रोच्चार और पारंपरिक पूजा करते हैं और शिवलिंग पर दूध, दही, शहद, घी, चीन और पानी का अभिषेक करते हैं। इस बीच 'ॐ नम: शिवाय' का जप और मंदिर की घंटियां लगातार बजाई जाती हैं।

मान्यताओं के अनुसार, महाशिवरात्रि पर भगवान शिव ने तांडव नृत्य किया था, और लोगों ने उन्हें मनाने के लिए प्रार्थना की थी ताकि किसी तरह का विनाश होने से रोका जा सके। शिव जब य​ह नृत्य करते हैं तो पूरा ब्रह्मांड विखंडित होने लगता है। इसीलिए इसको जलरात्रि भी कहते हैं।शिव पुराण के मुताबिक, महाशिवरात्रि पूजा के लिए जरूरी हैं। इनमें सिंदूर, बेल, फल और चावल, धूप, दीया, और पान पत्ता आवश्यक हैं। सिंदूर को शिवलिंग पर लगाया जाता है क्योंकि यह सदाचार की निशानी है। बेल से आत्मा शुद्ध होती है। फलाहार और चावल से भगवान शिव लंबी उम्र देने के साथ ही सभी इच्छाओं की पूर्ति का आशीर्वाद देते हैं। धूपबत्तियां धनार्जन के लिए जलाई जाती हैं। दीया जलाने से माना जाता है कि ज्ञान की प्राप्ति होती है। जबकि पान पत्ता भौतिक सुखों की पूर्ति करता है।

महाशिवरात्रि हमारी आत्मा को जागृत करने वाला पर्व है। इस रोज हम सनातन योगी बन जाते हैं और अपनी आत्मा की सुनते हैं। महाशिवरात्रि पर शिवभक्त पूरे दिन और रात व्रत रखते हैं। वे अगली सुबह भगवान शिव को चढ़ाए गए प्रसाद को ग्रहण करते हुए अपना व्रत खोलते हैं। ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव पावर्ती के बिना निर्गुण हैं। उनको सगुण बनने के लिए पार्वती की शक्तियों और साथ ही जरूरत रहती है।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Things to do on maha shivratri for peaceful and prosperous life online hindi news(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

जानिए कौन सी इच्छा पूरी करने के लिए जलाना चाहिए कौन से भगवान को दीपकइस बार इस योग में ही करें महाशिवरात्रि की पूजा, पूरी होगी कई मनोकामना
यह भी देखें