PreviousNextPreviousNext

सुरेश कलमाड़ी चुपके से तिहाड़ से निकले

Publish Date:Thursday,Jan 19,2012 10:55:45 PM | Updated Date:Thursday,Jan 19,2012 10:56:01 PM

पश्चिमी दिल्ली, जागरण संवाददाता : राष्ट्रमंडल खेल आयोजन घोटाले के आरोपी सुरेश कलमाड़ी जमानत मिलने के बाद बृहस्पतिवार शाम लगभग 7.30 बजे रिहा हो गए। सफेद रंग की जैकेट पहने कलमाड़ी अपनी कार में बैठकर तिहाड़ मुख्यालय के गेट से चुपके से बाहर निकल गए। गाड़ी में उनके साथ पत्नी मीरा कलमाड़ी व बेटा मौजूद था। वे तिहाड़ जेल में करीब साढ़े आठ महीने रहे। सुरेश कलमाड़ी की रिहाई के दौरान कांग्रेस का कोई बड़ा नेता या सांसद उन्हें लेने नहीं आया। मामले के एक अन्य आरोपी वीके वर्मा को भी जेल से रिहा कर दिया गया।

जेल के अधिकारियों के मुताबिक सुरेश कलमाड़ी को चार मई 2011 को तिहाड़ जेल लाया गया था। तब से वे जेल संख्या चार के वार्ड 15 में बंद थे। शाम लगभग छह बजे रिहाई का आदेश मिला। इसके बाद सभी कागजी कार्रवाई पूरी की गई। तिहाड़ जेल के महानिदेशक नीरज कुमार ने बताया कि शाम लगभग 7.30 बजे उन्हें रिहा किया गया। उन्हें लेने उनकी पत्नी मीरा कलमाड़ी व उनका बेटा आया था। उन्होंने कहा कि कलमाड़ी गेट संख्या चार से बाहर निकले।

रिहाई के बाद अमूमन कैदी गेट संख्या चार व तीन से ही निकलते हैं पर मीडिया की भारी मौजूदगी को देखते हुए कलमाड़ी को महानिदेशक कार्यालय के गेट से बाहर निकाला गया। कलमाड़ी सफेद रंग की जैकेट पहने सिल्वर कलर की गाड़ी से बाहर निकले। अधिकारियों के अनुसार रिहाई के दौरान जेल में बंद मामले के अन्य आरोपियों से भी उन्होंने मुलाकात की। जेल के डीआइजी आरएन शर्मा ने कहा कि जेल संख्या तीन में बंद वीके वर्मा भी शाम सात बजे रिहा किए गए।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए क्लिक करें m.jagran.com परया

कमेंट करें

Web Title:

(Hindi news from Dainik Jagran, newsstate Desk)

मानहानि के मामले में जगदीश टाइटलर को समनमोबाइल देने का निर्देश

प्रतिक्रिया दें

English Hindi
Characters remaining


लॉग इन करें

यानिम्न जानकारी पूर्ण करें



Word Verification:* Type the characters you see in the picture below

    यह भी देखें

    स्थानीय

      यह भी देखें
      Close
      चुपके से तिहाड़ से निकल गई कनीमोरी
      सुरेश कलमाड़ी पर क्या हैं आरोप
      उम्मीद में बैठे रहे कार्यकर्ता, चुपके से निकले नेताजी