PreviousNext

हुर्रियत फंडिंग मामले पर बोले स्‍वामी, घाटी की अस्‍थिरता के कारणों से हटेगा पर्दा

Publish Date:Sat, 20 May 2017 09:40 AM (IST) | Updated Date:Sat, 20 May 2017 10:11 AM (IST)
हुर्रियत फंडिंग मामले पर बोले स्‍वामी, घाटी की अस्‍थिरता के कारणों से हटेगा पर्दाहुर्रियत फंडिंग मामले पर बोले स्‍वामी, घाटी की अस्‍थिरता के कारणों से हटेगा पर्दा
हुर्रियत नेताओं को पाक से मिलने वाले फंडिंग मामले में एनआईए की कार्रवाई पर संतुष्‍टि जताते हुए भाजपा नेता स्‍वामी ने कहा है कि जल्‍द ही कश्‍मीर में जारी अस्‍थिरता और हिंसा के पीछे

नई दिल्‍ली (एएनआई)। नेशनल इंवेस्‍टिगेटिव एजेंसी (एनआर्इए) द्वारा हुर्रियत नेताओं पर जांच शुरू करने पर संतुष्‍टि व्‍यक्‍त करते हुए भारतीय जनता पार्टी के नेता सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने शनिवार को कहा कि अब जल्‍द ही कश्‍मीर में जारी अस्‍थिरता के कारणों का पर्दाफाश होगा। बता दें कि कश्‍मीर में सुरक्षाबलों पर पथराव व अन्‍य हिंसक घटनाओं के लिए हुर्रियत नेताओं को पाकिस्‍तान की ओर से फंडिग किए जाने का खुलासा हुआ है।

अस्‍िथरता का जिम्‍मेवार पाकिस्‍तानी कनेक्‍शन 

स्‍वामी ने एएनआई को बताया, ‘यह कहा जा सकता है कि इस घटना ने सबके चौंका दिया है। अब हमें कश्‍मीर में जारी विद्रोहों और हिंसा में पाकिस्‍तानी कनेक्‍शन के तह तक जाना होगा।‘ उल्‍लेखनीय है कि शुक्रवार को एनआईए ने जम्‍मू में हुर्रियत नेताओं सैयद अली शाह गिलानी, नईम खान व अन्‍य को लश्‍कर ए तैयबा प्रमुख हाफिज सईद व अन्‍य पाकिस्‍तानी आतंकियों से फंडिंग किए जाने को लेकर प्राथमिक जांच दर्ज कर लिया।

घाटी पहुंची एनआईए टीम 

सूत्रों के अनुसार, एनआईए की टीम हुर्रियत फंडिंग मामले की जांच के लिए घाटी पहुंच गई है। टीम ने फंडिंग की बारीकियों की जांच की जो कि ज्यादातर पथराव सार्वजनिक संपत्‍तियों को नुकसान पहुंचाने जैसी विद्रोही गतिविधियों के लिए उपयोग की जा रही थी।

अार्मी स्‍कूलों पर हुर्रियत का आरोप

हुर्रियत नेता और अलगाववादी की ओर से कश्‍मिरियों को आर्मी द्वारा चलाए जा रहे स्‍कूलों में बच्‍चों को भेजने से मना किया जाता रहा है। उनका कहना है कि ऐसे संस्‍थान अगली पीढ़ी को धर्म और संस्‍कृति से दूर कर रहे हैं,जबकि वो खुद अपने व अपने संबंधियों के बच्‍चों को अच्‍छी तालीम हासिल करवा रहे हैं।इन नेताओं के बच्‍चे व रिश्‍तेदार किस तरह से ऐशो-आराम की जिंदगी जी रहे हैं, इसका एक उदाहरण सैयद अली शाह गिलानी का परिवार वह गुट है, जो कश्‍मीर के युवाओं को 'बड़े मकसद' से हमेशा अपनी पढ़ाई छोड़कर सड़कों पर उतरने को कहते रहे हैं। अप्रत्‍यक्ष रूप से 'पत्‍थरबाजी' के लिए उनसे अनुरोध करते रहे हैं। गिलानी के बेटे नईम गिलानी पाकिस्‍तान के रावलपिंडी में चिकित्‍सक हैं। वहीं उनके दूसरे बेटे जहूर भारत में एक प्राइवेट एयरलाइंस के मेंबर हैं। गिलानी की बेटी जेद्दा में एक शिक्षक है और पति वहां एक इंजीनियर है।

हिंसक गतिविधियों को पाक का समर्थन

रिपोर्ट के अनुसार, पहले व हाल में भारत में गिरफ्तार हुए आइएसआइ के दो आतंकियों से इस बात का खुलासा हुआ कि जम्‍मू कश्‍मीर में अलगवावादियों को पिछले कुछ माह से पाकिस्‍तान की ओर से फंडिंग की जाती है। कुछ कागजात जो जांच के दौरान बरामद हुए है उससे पाकिस्‍तान व अलगाववादी नेताओं के बीच की सांठगांठ सामने आयी है जो कश्‍मीर के युवाओं को वहां हिंसक गतिविधियों के लिए उकसा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: NIA करेगी गिलानी से पूछताछ, लश्‍कर से धन लेने का आरोप

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Swamy reaction on Hurriyat funding expose that Provoked Kashmir unrest soon to be uncovered(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

गांवों को मलेरियामुक्त बनाने के लिए डॉक्टर लेंगे गांवों को गोदहरियाली से बचाया जल और जीवन, आई खुशहाली
यह भी देखें