PreviousNext

मायावती की BJP को चुनौती, बोलीं- जनादेश पर है भरोसा तो फिर से करायें चुनाव

Publish Date:Tue, 21 Mar 2017 01:02 PM (IST) | Updated Date:Tue, 21 Mar 2017 02:45 PM (IST)
मायावती की BJP को चुनौती, बोलीं- जनादेश पर है भरोसा तो फिर से करायें चुनावमायावती की BJP को चुनौती, बोलीं- जनादेश पर है भरोसा तो फिर से करायें चुनाव
बसपा सुप्रीमो मायावती ने भाजपा को चुनौती देते हुए कहा कि बैलेट पेपर के माध्यम से एक बार फिर से कराए चुनाव।

नई दिल्ली (एएनआइ)। उत्तरप्रदेश में अपनी हार से बौखलायी बसपा सुप्रीमो मायावती ने बुधवार भाजपा को ललकारते हुए कहा कि अगर उसे जनादेश पर भरोसा है तो एक बार फिर से बैलेट पेपर के माध्यम चुनाव करायें और इसके साथ उन्होंने चुनाव में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (इवीएम) के इस्तेमाल को खत्म करने के लिए कानून की मांग की है।

राज्यसभा में इस मुद्दे को उठाते हुए मायावती ने कहा, 'उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड में हुए चुनाव के नतीजो में जो फैसला आया है वो जनता का नहीं बल्कि इवीएम का फैसला है।' उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ने इस मुद्दे को उठाने के लिए नियम 267 के तहत नोटिस भी दिया है।

इसके साथ ही मायावती ने कहा कि, 'जब कांग्रेस पार्टी सत्ता मे थी तो भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने इवीएम के इस्तेमाल पर संदेह व्यक्त किया था। साथ ही उन्होंने कहा कि इवीएम का उपयोग करके स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव नहीं हो सकते हैं। अब जब भाजपा सत्ता में है तो वो इवीएम के निर्णय को सही ठहरा रही हैं। भाजपा यदि इतनी इमानदार है तो क्यों नहीं बैलेट पेपर के माध्यम से चुनाव करवा रही है।' मायावती ने मांग की है कि चुनाव में इवीएम के प्रयोग को खत्म करने के लिए चालू सत्र में कानून लाया जाए। 

गौरतलब है कि यूपी में पिछली विधानसभा चुनाव में बीएसपी की 80 सीट थी जो इस बार महज 19 सीट तक सिमट गई। मोदी लहर में भाजपा गठबंधन ने 14 साल बाद 325 सीट जीती जबकि समाजवादी पार्टी ने 47 और इसकी सहयोगी कांग्रेस महज 7 सीटों तक सिमट गई।

यह भी पढ़ें: ईवीएम को लेकर दो-तीन दिनों में कोर्ट जाएंगी मायावती

यह भी पढ़ें: EVM विवाद में कूदी ममता, कहा- इस पर चर्चा के लिए EC बुलाए सर्वदलीय बैठक

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Mayawati dares BJP to hold polls using ballot papers(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

योगी आदित्यनाथ चाहते थे भारत को इंडिया नहीं, हिंदुस्तान कहा जाएचीन की खुलेआम धमकी, कहा- नेपाल और श्रीलंका से संबंधों पर भारत चुप रहे तो अच्‍छा
यह भी देखें