PreviousNext

त्रिपुरा में भयंकर बाढ़, लगभग 2000 परिवार विस्थापित

Publish Date:Tue, 20 Jun 2017 12:31 PM (IST) | Updated Date:Tue, 20 Jun 2017 12:31 PM (IST)
त्रिपुरा में भयंकर बाढ़, लगभग 2000 परिवार विस्थापितत्रिपुरा में भयंकर बाढ़, लगभग 2000 परिवार विस्थापित
मुख्यमंत्री माणिक सरकार ने स्थिति की समीक्षा के लिए सोमवार रात यहां उच्च स्तरीय बैठक बुलाई।

अगरतला, पीटीआई। त्रिपुरा में बारी बारिश ने जनजीवन को बुरी तरह प्रभावित किया है। बाढ़ में घर डूबने से 2,000 से ज्यादा परिवार विस्थापित हो गए हैं। एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि विस्थापित परिवार पश्चिम त्रिपुरा जिले के सादर, जिरानिया और मोहनपुर तथा खोवाई जिले के खोवाई व तेलीयामुरा सब-डिविजनों से ताल्लुक रखते हैं। उन्हें 50 राहत शिविरों में रखा गया है।

आपदा प्रबंधन नियंत्रण केंद्र के अधिकारी के मुताबिक रविवार रात से हुई भारी बारिश से निचले इलाकों, सड़कों, त्रिपुरा के दो जिलों के पांच सब-डिविजन की बस्तियों में पानी भर गया है।

उन्होंने कहा कि प्रभावित लोगों को बचाने और उनकी सहायता करने के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ), त्रिपुरा स्टेट राइफल टीम और जिला प्रशासन के अधिकारियों को तैनात किया गया है। हावड़ा और खोवाई सहित कई नदियों का पानी खतरे के निशान के ऊपर पहुंच गया है।

मुख्यमंत्री माणिक सरकार ने स्थिति की समीक्षा के लिए सोमवार रात यहां उच्च स्तरीय बैठक बुलाई। अधिकारी ने बताया कि सरकार ने प्रभावित जिलों की स्थिति पर 24 घंटे नजर बनाए रखने और लोगों की सहायता को तुरंत कदम उठाने के लिए जिला प्रशासन को नियंत्रण कक्ष खोलने के निर्देश दिए हैं।

मौसम विभाग के निदेशक दिलीप साहा ने गुरुवार तक और ज्यादा बारिश होने की बात कही है। साहा ने कहा कि अगरतला में जून में 695 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई, जबकि सामान्य बारिश का अनुमान 421 मिलीमीटर का था।

यह भी पढ़ें: मानसून ने मुंबई और कोलकाता में दी दस्तक

यह भी पढ़ें: मॉनसून के सीजन में गोवा लोगों की सबसे पसंदीदा जगह- सर्वे

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Floods in Tripura over 2000 families displaced(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

लिम्का बुक में नाम दर्ज कराने के उद्देश्य से 275 लोगों ने 108 बार किया सूर्य नमस्कारअगर अंग्रेजी दवाओं में नहीं है विश्वास तो ये विकल्प हैं आपके पास
यह भी देखें