PreviousNext

गोवा में पहली बार पिंक पोलिंग बूथ, वोट डालने वाली महिलाओं को दिए गए टैडी बीयर

Publish Date:Sun, 05 Feb 2017 02:24 AM (IST) | Updated Date:Sun, 05 Feb 2017 02:29 AM (IST)
गोवा में पहली बार पिंक पोलिंग बूथ, वोट डालने वाली महिलाओं को दिए गए टैडी बीयरगोवा में पहली बार पिंक पोलिंग बूथ, वोट डालने वाली महिलाओं को दिए गए टैडी बीयर
चुनाव आयोग के इंस्ट्रक्शन पर राज्य में महिलाओं के लिए 40 पोलिंग बूथ बनाए गए। जहां पिंक ड्रेस में फीमेल स्टाफ अप्वाइंट किया गया।

पणजी, जेएनएन। गोवा की 40 विधानसभा सीटों के लिए शनिवार को वोटिंग हुई। इस बार 83% वोटिंग हुई। पिछले इलेक्शन से 2 फीसदी ज्यादा। बता दें कि पिछले असेंबली इलेक्शन में 81% वोटिंग हुई थी। इलेक्शन कमीशन ने लोगों को इनकरेज करने के लिए नई कोशिश की। यहां पहली बार महिलाओं के लिए खास पिंक पोलिंग बूथ तैयार किए गए। जहां वोट डालने वाली महिलाओं को एक पिंक टैडी बीयर दिया गया।

पूरे राज्य में 40 पिंक पोलिंग बूथ...

चुनाव आयोग के इंस्ट्रक्शन पर राज्य में महिलाओं के लिए 40 पोलिंग बूथ बनाए गए। जहां पिंक ड्रेस में फीमेल स्टाफ अप्वाइंट किया गया। पिंक बूथ के नाम से पहचाने जाने वाले इन बूथों पर गुलाबी रंग से सजावट की गई थी। यहां महिलाओं की जरूरत के हिसाब से उनकी हर फेसिलिटी का ख्याल रखा गया।
पिंक बूथ में यह खास था
पिंक पोलिंग बूथ पर पिंक झंडे, पिंक गुब्बारे, रंगोली और दूसरी तरह की सजावट की गई है। महिलाओं के लिए रेड कारपेट बिछाए गए हैं। वोटिंग के लिए आने वाली महिलाओं का फूल देकर वेलकम किया जा रहा है।
पुरुषों से 20 हजार ज्यादा महिला वोटर्स
गोवा में 5 लाख 62 हजार वोटर हैं। गोवा में पुरुषों से करीब 20 हजार ज्यादा महिला वोटर्स हैं। महिला वोटर्स की संख्या को देखते हुए चुनाव आयोग ने यह फैसला लिया है, ताकि ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को वोटिंग के लिए इंस्पायर किया जा सके। यह पहली बार है जब महिलाओं के लिए खास तरह के पिंक बूथ बनाए गए।
गोवा के चीफ इलेक्शन ऑफिसर कुनाल ने बताया, "इस तरह के बूथों को बनाने का मकसद ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को पोलिंग स्टेशंस तक लाना है।"

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:first time in goa women voters get pink teddy beer(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

4 साल का था जब पिता गए थे जेल, रिहा हुए तो खुशी के मारे बेटे की हो गई मौतविश्व-युद्ध में शहीद की विधवा को 58 साल बाद मिली बकाया पेंशन
यह भी देखें