PreviousNextPreviousNext

राजा की जलेब में 10 देवताओं ने भरी हाजिरी

Publish Date:Wednesday,Oct 16,2013 01:19:15 AM | Updated Date:Wednesday,Oct 16,2013 01:21:28 AM

बालकृष्ण शर्मा, कुल्लू

अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सव कुल्लू के दौरान मंगलवार को राजा की जलेब निकली। वर्षो से चली आ रही परंपरा के पहले दिन राजपरिवार के मुखिया महेश्वर की जलेब में 10 देवताओं ने उपस्थिति दर्ज की।

जलेब ने देवताओं व वाद्य यंत्रों की थाप के साथ ढालपुर मैदान की परिक्रमा की। भगवान रघुनाथ की यात्रा के साथ राजा की चानणी से चलकर जलेब ढालपुर मैदान के चारों ओर से होती हुई पुन: राजा की चानणी के पास समाप्त हुई। जलेब में भगवान रघुनाथ जी के छड़ीबरदार महेश्वर सिंह को पालकी पर बैठाकर ढालपुर मैदान के चक्कर लगाए गए। महेश्वर हर देवता के शिविर के सामने से निकले। हर देवता के प्रतिनिधि ने पालकी में सवार महेश्वर सिंह को बतौर भेंट फूल दिए। यह परंपरा दशहरा पर्व का महत्वपूर्ण हिस्सा है जो लंका दहन तक निभाई जाती है। इस परंपरा के चलते लोगों में भी उत्साह बना हुआ है। पहले दिन निकली जलेब में देवताओं सहित भक्त भारी संख्या में शामिल हुए। वाद्य यंत्रों की थाप पर देवताओं ने भी झूमने का लुत्फ उठाया। नरसिंह की घोड़ी सज-धजकर जलेब में आगे चल रही थी व महेश्वर की पालकी देवताओं के बीच थी। लंका दहन तक रोजाना निकाले जानी वाली जलेब में हर दिन नए देवता उपस्थिति दर्ज करवाते हैं।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए क्लिक करें m.jagran.com परया

कमेंट करें

Web Title:

(Hindi news from Dainik Jagran, newsstate Desk)

कुल्लू दशहरे में लगा पशु मेलाएसआर आजाद वाला संघ करेगा महासंघ के बैंकखाते का संचालन
यह भी देखें

प्रतिक्रिया दें

English Hindi
Characters remaining


लॉग इन करें

यानिम्न जानकारी पूर्ण करें



Word Verification:* Type the characters you see in the picture below

    स्थानीय

      यह भी देखें
      Close
      राजा की जलेब का अपना महत्व
      10 फीसद बढ़ा देवी-देवताओं का नजराना
      देवताओं के लिए जल्द बने देवभवन