PreviousNext

ब्रेन कैंसर मरीजों को नए उपचार से लाभ

Publish Date:Thu, 20 Apr 2017 03:36 PM (IST) | Updated Date:Thu, 20 Apr 2017 03:36 PM (IST)
ब्रेन कैंसर मरीजों को नए उपचार से लाभब्रेन कैंसर मरीजों को नए उपचार से लाभ
अमेरिका की ड्यूक यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यह दावा किया है। इन्होंने ग्लिओब्लास्टोमा (जीबीएम) से पीडि़त 11 मरीजों का अध्ययन किया था।

वाशिंगटन, प्रेट्र। कीमोथैरेपी की उच्च खुराक और वैक्सीन के मिश्रण से ब्रेन कैंसर के पीडि़त मरीजों के जीवित बचने की दर को बढ़ाया जा सकता है। अमेरिका की ड्यूक यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यह दावा किया है। इन्होंने ग्लिओब्लास्टोमा (जीबीएम) से पीडि़त 11 मरीजों का अध्ययन किया था। ग्लिओब्लास्टोमा ब्रेन कैंसर का आक्रामक रूप है जिसकी शुरुआत ब्रेन में होती है।

इन मरीजों को एक वैक्सीन दी गई थी जिसे च्साइटोमेगालोवायरस (सीएमवी) एंटीजन पीपी65 पर लक्षित किया गया था। इसके साथ उन्हें टेमोजोलामाइड नामक कीमोथैरेपी ड्रग की उच्च खुराक दी गई थी।

शोधकर्ताओं ने पता लगाया कि इस उपचार के बाद जीबीएम मरीजों के एक छोटे ग्रुप में जीवित बचने की दर में वृद्धि हुई। ड्यूक यूनिवर्सिटी के एक शोधकर्ता क्रिस्टन बेटिश का कहना है कि इस मिश्रित उपचार के बाद जीबीएम मरीजों के क्लिनिकल नतीजे बहुत चौंकाने वाले थे। इन मरीजों में 25.3 महीने तक बीमारी आगे नहीं बढ़ी। तीन मरीजों में बीमारी के निदान के बाद करीब सात साल तक बीमारी आगे नहीं बढ़ी। कुल मिला कर इन मरीजों की सर्वाइवल दर 41.1 महीने रही।

यह भी पढ़ें:

ऐसी पट्टी जो बिना खुले बता देगी कितना भरा घाव

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:new remedies for Brain cancer patients(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

वायु प्रदूषण से बढ़ती है साइनस की परेशानीलिवर के लिए फायदेमंद है ओमेगा-3 एसिड
यह भी देखें