मेडिकल स्टोर पर गर्भपात किट बेचते पकड़ा गया एमआर

Publish Date:Sat, 09 Sep 2017 03:00 AM (IST) | Updated Date:Sat, 09 Sep 2017 03:00 AM (IST)
मेडिकल स्टोर पर गर्भपात किट बेचते पकड़ा गया एमआरमेडिकल स्टोर पर गर्भपात किट बेचते पकड़ा गया एमआर
जागरण संवाददाता, हिसार : नागरिक अस्पताल के सामने मनीष मेडिकोज पर ड्रग विभाग ने छापा मारा

जागरण संवाददाता, हिसार : नागरिक अस्पताल के सामने मनीष मेडिकोज पर ड्रग विभाग ने छापा मारा। वहां न तो फार्मासिस्ट मौजूद था और न केमिस्ट। उनकी जगह दवा प्रतिनिधि (एमआर) मौजूद थे, जिसकी उपस्थिति में गर्भपात किट बरामद हुई। उसने बताया कि भादरा से दवा प्रतिनिधि किट लाकर देता था। उस दौरान किट की खरीद सहित 20 प्रकार की नशा के तौर पर दुरुपयोग होने वाली दवाओं का रिकॉर्ड भी नहीं दिखा पाए। इसलिए दवाइयों को जब्त कर लिया। इसकी सूचना मिलने पर फार्मासिस्ट पहुंचा तो उसने इस्तीफा दे दिया और केमिस्ट ने अपने दो लाइसेंस सरेंडर कर दिया। ऐसे में ड्रग अधिकारी ने मेडिकल स्टोर को सील कर दिया है। अगर दवाओं की खरीद-फरोख्त का रिकॉर्ड दिखाने में केमिस्ट असफल रहा तो लाइसेंस कैंसिल कर दिए जाएंगे। ड्रग विभाग के ड्रग कंट्रोलर डा. सुरेश चौधरी ने बताया कि फूड एंड ड्रग विभाग के आयुक्त डा. साकेत के आदेश पर अवैध रूप से दवाइयां बेचने के खिलाफ कार्रवाई कर रहे हैं। उन्हें सूचना मिली थी कि मनीष मेडिकोज अवैध रूप से गर्भपात की किट बेचता है। इसके आधार पर टीम के साथ मेडिकल स्टोर पर छापा मारा था। वहां केमिस्ट एवं प्रोपराइटर मनीष कुमार का भाई राजबीर मिला, जोकि दवा प्रतिनिधि है। उससे केमिस्ट मनीष और फार्मासिस्ट रवि गोयल बारे पूछा तो जवाब मिला कि पता नहीं कहां हैं। जब वहां छानबीन शुरू की तो काउंटर में गर्भपात की एक किट बरामद हुई। उसे जब्त करके खरीद का रिकॉर्ड दिखाने के लिए कहा, तो आनाकानी करने लगा। सख्ती से पूछने पर बताया कि उसका दोस्त बलवान भादरा में रहता है। वह भी दवा प्रतिनिधि है, जोकि किट लाकर देता है। ऐसे में बलवान सहित मनीष और रवि गोयल को मौके पर बुला लिया गया। टीम की मेडिकल स्टोर में कार्यवाही जारी थी, जिसके चलते वहां से 20 प्रकार की दवाइयां मिली। उनका रिकॉर्ड दिखाने के लिए कहा तो नहीं पेश कर पाए। अधिकांश दवाइयां नशे के तौर पर दुरुपयोग लाई जाती हैं। ड्रग कंट्रोलर ने एमटीपी किट और दवाइयों को अपने कब्जे में ले लिया। तब फार्मासिस्ट ने मौके पर अपना इस्तीफा दिया और केमिस्ट मनीष ने दवा बेचने के दो लाइसेंस सरेंडर कर दिए। अगर उसने दवाइयों का सेल-परचेज रिकॉर्ड नहीं दिखाया तो लाइसेंस रद कर दिया जाएगा। बलवान भी किट संबंधित कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया है। फिलहाल मेडिकल स्टोर को सील कर दिया गया है।

वर्जन........

इससे पहले विजय नगर स्थित मेडिकल स्टोर, सेवक सभा अस्पताल के नजदीक प्रवीण मेडिकल हॉल, न्यू मॉडल टाउन एक्सटेंशन स्थित मिगलानी मेडिकोज पर छापामारी करके दवाइयां जब्त की थी। पहले दो मेडिकल स्टोर संचालकों का लाइसेंस रद कर दिया गया है। मिगलानी मेडिकोज के लाइसेंस रद करने की सिफारिश संबंधी पत्र अधिकारियों को भेजा गया है। एक अन्य व्यक्ति को नशे में प्रयोग होने वाली दवाइयों के साथ रंगे हाथों पकड़ा गया था।

डा. सुरेश चौधरी, ड्रग कंट्रोलर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:health news(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

यह भी देखें