PreviousNext

जहरीले जीवों के बीच 18 दिन पेड़ पर रहा परिवार, NDRF ने बचा ली जान

Publish Date:Thu, 01 Sep 2016 08:55 PM (IST) | Updated Date:Fri, 02 Sep 2016 03:57 PM (IST)
जहरीले जीवों के बीच 18 दिन पेड़ पर रहा परिवार, NDRF ने बचा ली जान
बिहार में आई बाढ़ के कारण भागलपुर में एक परिवार के 12 सदस्यों के 18 दिन पेड़ पर कटे। सौभाग्य से एनडीआरएफ की टीम की नजर उनपर पड़ गई और उन्हें बचाकर राहत शिविर लाया गया।

पटना [वेब डेस्क]। बिहार में आई बाढ़ से लोगों को कई तरह के कष्टों का समाना करना पड़ा। ऐसे ही एक मामले में एक परिवार की जिंदगी 18 दिनों से पेड़ पर कटी। संयोग से उनपर एनडीआरएफ की नजर पड़ गई और उन्हें पेड़ से उतार कर राहत शिविर में लाया गया। घटना भागलपुर के नवगछिया स्थित बगडेर गांव की है।

भागलपुर मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर नवगछिया के बगडेर गांव में परमानंद मंडल का 12 लोगों का एक परिवार 18 दिनों से एक पेड़ पर जीवन गुजार रहा था। बाढ़ से बचने के लिए जब कोई रास्ता नहीं सूझा तो पूरा परिवार पेड़ पर चढ़ गया। पेड़ पर सांप समेत अन्य जहरीले जीव-जंतु भी थे।

परमानंद मंडल ने बताया कि वे यह सोचकर पेड़ पर चढ़े कि पानी कम होने पर उतर जाएंगे। लेकिन, पानी बढ़ता चला गया और उनकी जिंदगी पेड़ पर ही टंग गई। इस दौरान बाढ़ में बहकर आने वाली सामग्री व पेड़ के पत्तों आदि को खाकर किसी तरह जीवन चला। परमानंद ने बताया कि प्यास लगने पर बाढ़ के पानी का ही सहारा था, जिसे पीने पर उबकाई आती थी।

उन्होंने बताया कि पेड़ पर सांप व अन्य खतरनाक जीव-जंतु भी थे। इस बीच कई बार बारिश का भी सामना करना पड़ा। परमानंद मंडल ने बताया कि जब जान पर बन आई तो ये जीव-जंतु भी दोस्त बन गए थे। वे सभी भी साथ रहने लगे थे। हालांकि, एहतियातन परिवार के लोग इन जीवों से सुरक्षा के लिए एक-एक कर सोते थे। एक व्यक्ति परिवार की सुरक्षा के लिए हमेशा सतर्क रहता था।

एनडीआरएफ के कमांडेंट संजय कुमार के अनुसार ने बताया कि बुधवार को एनडीआरएफ की टीम ने पेड़ पर जीवन गुजार रहे इस परिवार को बचाया।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Family living on a tree during flood rescued by NDRF in Bhagaplpur(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

भागलपुर में MP के लापता होने के लगे पोस्टर, खोजने वाले को 500 का इनामस्नातक पार्ट वन की परीक्षा 20 से
यह भी देखें