पटना, जागरण टीम। Lalu Prasad Yadav CBI Raid News: लालू प्रसाद यादव के ठिकानों पर केंद्रीय अन्‍वेषण ब्‍यूरो (Central Bureau of Investigation) की छापेमारी पर राजद के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष शिवानंद तिवारी ने सवाल उठाया है। उन्‍होंने कहा है कि राबड़ी देवी के आवास सहित लालू प्रसाद यादव से जुड़े अन्‍य ठिकानों पर छापेमारी में बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के लिए संदेश छिपा हो सकता है। उन्‍होंने कहा कि नीतीश कुमार और तेजस्‍वी यादव के बीच बढ़ती नजदीकी भाजपा को असहज कर रही है। शिवानंद ने कहा कि छापेमारी के लिए चुना गया समय तो इसी बात का संदेश देता है।

ये भी पढ़ें, पटना में राबड़ी देवी के आवास सहित लालू यादव से जुड़े 15 ठिकानों पर सीबीआइ का छापा

जाति आधारित जगनणना का मसला भी जोड़ा 

श‍िवानंद तिवारी ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जातीय जनगणना को रोकना चाहता है। जाति आधारित जनगणना से सभी के बारे में सही जानकारी सामने आएगी। जब यह पता लगेगा कि किनकी कितनी संख्या है, तो यह भी पता चलेगा कि देश के संसाधनों का इस्‍तेमाल कितने तार्किक ढंग से हो रहा है। बहुसंख्‍यक आबादी संसाधनों और सुविधाओं से वंचित है। साधनों के सही तरीके से बंटवारे की मांग जाति जनगणना के बाद उठ सकती है। इसलिए यह मसला उठाया जा रहा है। 

ये भी पढ़ें, सीबीआइ के छापे से बौखलाया लालू परिवार, रोहिणी आचार्य ने किसको कहा बिल्‍ला का पिल्‍ला?

सीबीआइ अचानक नींद से क्‍यों जागी? 

शिवानंद ने कहा कि इतने पुराने मामले में सीबीआई के अचानक नींद से जागने का क्‍या मतलब है? यह छापेमारी ऐसे समय में होनी चाहिए थी, जब नीतीश कुमार जातीय जनगणना के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाने की बात कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि ऐसी कार्रवाई के जरिए भी सच को अधिक देर तक दबा कर नहीं रखा जा सकता है। तिवारी ने कहा कि यह कार्रवाई लालू प्रसाद यादव और उनके परिवार को परेशान करने के लिए की गई है।

राजद विधायक मुकेश रोशन ने भी शिवानंद तिवारी वाली बात ही कही। वे छापेमारी की खबर मिलते ही राबड़ी देवी के आवास पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव के बीच नजदीकियां बढ़ने के बाद भाजपा ने यह खेल कराया है। उन्‍होंने कहा कि केंद्र सरकार ने अपना तोता सीबीआई को राबड़ी देवी के आवास पर भेज दिया है। ऐसे समय में यह छापेमारी ठीक नहीं है, जब लालू प्रसाद का दिल्ली में इलाज चल रहा है और तेजस्वी यादव भी बाहर हैं।

Edited By: Shubh Narayan Pathak