नई दिल्ली, एएनआइ। दूसरे देशों में फंसे भारतीय नागरिकों को वापस लाने के लिए चलाए गए 'वंदे भारत मिशन' के तहत लोगों को स्वदेश वापस लाया जा रहा है। अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम समेत विभिन्न देशों से भारतीय नागरिकों को अपने वतन वापस लाने के लिए इस मिशन की शुरूआत की गई है। भारत सरकार की तरफ से उठाए गए इस महत्पूर्ण कदम को लेकर नागरिक काफी खुश हैं। कनाडा के टोरंटो से अपने देश वापस लौट रहे भारतीय नागरिकों ने केंद्र सरकार का धन्यवाद किया है। सरकार और भारतीय दूतावासों द्वार की गई फ्लाइट की व्यवस्था के लिए इन लोगों ने शुक्रिया अदा किया है।

वहीं ब्रिटेन से भी कई नागरिकों को वापस लाया जा रहा है। स्वदेश वापसी के लिए ये सभी लोग लंदन एयपोर्ट पहुंच चुके हैं। यहां से इन लोगों को फ्लाइट के जरिए दिल्ला लाया जाएगा।

अब तक 23 हजार से ज्यादा को लाया गया वापस

वंदे भारत मिशन के तहत अभी तक विदेशों में फंसे 23 हजार से अधिक भारतीय नागरिक वापस आ चुके हैं। पंजीकरण कराने वाले 2.59 लाख भारतीयों में से 28 फीसद कामगर या श्रमिक हैं। इनमें से ज्यादातर खाड़ी क्षेत्र में कार्यरत श्रमिक हैं जिनके पास अब रोजगार नहीं है।

16 मई से शुरू हुआ वंदे भारत का दूसरा चरण

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बताया है कि 16 मई से वंदे भारत मिशन का दूसरा चरण शुरू हो चुका है जो 13 जून तक चलेगा। उन्होंने बताया कि दूसरे चरण में 47 देशों से 162 उड़ानें भारत लाई जाएंगी। लेकिन मांग इतनी ज्यादा है कि अब फ्रैंकफर्ट को एक हब के तौर पर बनाने पर विचार किया जा रहा है। यानी लोगों को वहां लाया लाकर रोका जाए और फिर वहां से भारत।

Posted By: Neel Rajput

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस