लंदन, एजेंसी। ब्रिटेन में कोरोना महामारी के बीच हजारों लोगों ने पूर्वी इंग्‍लैंड में होने वाले संगीत फेस्‍टीवल में हिस्‍सा लिया। 22 जुलाई को देश में प्रतिबंधों को हटाए जाने के बाद ब्रिटेन का पहली प्रमुख संगीत समारोह का श्रीगणेश हुआ। चार दिनों तक चलने वाले इस कार्यक्रम में पूर्वी इंग्‍लैंड के एक मैदान में हजारों लोग उमड़ पड़े। यह आयोजन सरकार के इवेंट रिसर्च प्रोग्राम का हिस्‍सा है। पिछले हफ्ते प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि इंग्लैंड में कम से कम 19 जुलाई तक शारीरिक दूरी के उपाय लागू रहेंगे। लगभग एक महीने बाद सभी प्रतिबंधों को हटाने की योजना बनाई गई थी। कोरोना वायरस के प्रसार के चलते देश में कई प्रमुख त्योहारों को लगातार दूसरे वर्ष भी रद कर दिए गए हैं।

फेस्‍टीवल में आए लोगों में दिखा उत्‍साह

बता दें कि ब्रिटेन में कोरोना महामारी के बीच संगीत फेस्‍टीवल का आयोजन हो रहा है। संगीत पर्व पर जाने वालों के चेहरे पर एक मुस्‍कान थी। यहां लोगों ने कहा कि भीड़ के बीच वापस आना शानदार लगा। यह सुंदर, उत्कृष्ट और वास्तव में अच्छा था। वहां मौजूद लोगों ने कहा कि हजारों लोगों को एक बार में देखना अच्‍छा लगा। उन्‍होंने कहा कि हम में से बहुत से लोगों ने कम से कम टीके की पहली खुराक ली है, इसलिए हम जीवन में वापस आने के लिए तैयार हैं।

1970 के दशक से ब्रिटेन में संगीत समारोह का चलन

गौरतलब है कि 1970 के दशक से ब्रिटेन में संगीत समारोह गर्मियों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहे हैं। छुट्टियों में इस तरह के आयोजन किशोरों को खूब रास आता है। यहां उन्‍हें संगीत प्रेमियों को एक पूरा समुदाय मिलता है और लोग मस्‍ती के मूड में होते हैं। इस मस्‍ती में लोग पूरी तरह से लापरवाह हो जाते हैं।

ब्रिटेन में आयोजनों का अर्थव्‍यवस्‍था में योगदान

एसोसिएशन ऑफ इंडिपेंडेंट फेस्टिवल्स के अनुसार 2019 में लगभग 1,000 आयोजित किए गए, जिसमें 52 लाख लोग उपस्थित थे। उस वर्ष त्योहारों ने ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था के लिए 1.7 बिलियन पाउंड का योगदान दिया था। ब्रिटिश त्योहारों में ग्लास्टोनबरी जैसे विश्व प्रसिद्ध आयोजन शामिल हैं। यह दक्षिण-पश्चिमी इंग्लैंड में एक खेत को हर साल एक सप्ताह के लिए एक अस्थायी शहर में बदल देता है।

इसे मार्च की शुरुआत में रद में कर दिया गया था। इस सप्ताह के अंत में इस आयोजन को जल्दबाजी में आगे बढ़ाया गया, क्योंकि यह एक सरकारी परीक्षण का हिस्सा है, खासकर यह देखने के लिए कि सांस्कृतिक जीवन सुरक्षित रूप से वापस आ सकता है या नहीं।

Edited By: Ramesh Mishra