लंदन, रायटर। जलवायु परिवर्तन के घातक दुष्प्रभावों से दुनिया को बचाने के लिए अब वैज्ञानिकों ने मोर्चा खोल दिया है। बीस देशों के तीन सौ से ज्यादा विज्ञान जगत की हस्तियों ने इसको लेकर एक साझा घोषणा पत्र जारी किया है। इसमें लोगों से अपनी-अपनी सरकारों के खिलाफ सामूहिक सविनय अवज्ञा आंदोलन चलाने का आह्वान किया है। उनका कहना है कि जलवायु परिवर्तन की बढ़ती समस्या से निपटने के लिए अगर समय रहते कारगर कदम नहीं उठाए गए तो इससे हमारी धरती तबाह हो सकती है और लोगों को असहनीय दुख उठाने पड़ेंगे। इन वैज्ञानिकों ने जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए तत्काल कार्रवाई की मांग करने वाली संस्था एक्सटिंक्शन रिबेलियन के बैनर तले जारी शांतिपूर्ण प्रदर्शनों का समर्थन किया है।

जलवायु परिवर्तन के खिलाफ जंग के लिए जारी घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर करने वालों में नामचीन मौसम वैज्ञानिक, भौतिकविद, जीव विज्ञानी, इंजीनियर और रसायन शास्त्री शामिल हैं। उन्होंने यह कदम जलवायु परिवर्तन की समस्या से निपटने में सरकारों की सुस्ती को देखते हुए उठाया है। मानवता के लिए आत्मघाती बनती जा रही इस भयावह समस्या पर सरकारों की उदासीनता के खिलाफ इन वैज्ञानिकों ने शनिवार को अपने गुस्से का सार्वजनिक रूप से इजहार किया। घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर करने वाले तकरीबन बीस वैज्ञानिक सफेद कोट पहने लंदन स्थित साइंस म्यूजियम के बाहर जुटे। वहां पर वैज्ञानिकों की प्रवक्ता व मॉलिक्यूलर बायोलॉजी की विशेषज्ञ एमिली ग्रॉसमैन ने घोषणा पत्र को सार्वजनिक रूप से जारी किया।

बकौल एमिली, 'जलवायु परिवर्तन रोकने की दिशा में सरकारों की सुस्ती के खिलाफ जारी शांतिपूर्ण प्रदर्शन न्यायोचित हैं। सरकारी निकम्मेपन के विरुद्ध अब सीधी कार्रवाई करने का समय आ गया है, चाहे इसके चलते कानून का उल्लंघन ही क्यों न हो जाए।' उनका कहना था, 'जलवायु परिवर्तन की समस्या को लेकर दुनिया भर में सरकारों के खिलाफ जारी शांतिपूर्ण प्रदर्शनों का हम समर्थन करते हैं। समस्या इस कदर गंभीर रूप हो गई है कि हम कठोर कदम उठाने के लिए बाध्य हैं।'

एक्सटिंक्शन रिबेलियन की मुहिम को समर्थन

घोषणा पत्र को वैज्ञानिकों के उस समूह ने तैयार किया है, जो ब्रिटिश संस्था एक्सटिंक्शन रिबेलियन द्वारा चलाए जा रहे आंदोलन का पहले से ही समर्थन कर रहे हैं। जलवायु परिवर्तन की समस्या से निपटने के लिए तत्काल कदम उठाने की मांग को लेकर इस संगठन के बैनर तले दुनिया के कई देशों में शांतिपूर्ण प्रदर्शन चल रहे हैं। पिछले हफ्ते लंदन, न्यूयॉर्क, सिडनी, टोरंटो, एम्सटर्डम और ब्रसेल्स सहित दुनिया भर के बीस शहरों में सरकार विरोधी शांतिपूर्ण प्रदर्शन हुए। इसमें हजारों लोगों खासकर युवाओं ने गिरफ्तारी दी।

यह भी पढ़ें- LIC बंपर भर्ती में हुआ बड़ा बदलाव, अगर आपने भी किया है आवेदन तो जरूर पढ़ें एक बार

Posted By: Neel Rajput

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप