लंदन, रायटर्स। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि मंकीपाक्स के अधिक मामले सामने आ सकते हैं। यूएन एजेंसी ने कहा कि उन देशों में मंकीपाक्स के मामलों की निगरानी की जाएगी जहां यह बीमारी आम तौर पर नहीं पाया जा रहा है। शनिवार तक 12 देशों में मंकीपाक्स के 92 मामले और 28 संदिग्ध मामले सामने आए हैं,जो वायरस के लिए स्थानिक (Endemic) नहीं हैं। यूएन एजेंसी के मुताबिक, आने वाले दिनों में देशों के लिए मंकीपाक्स के प्रसार से जुड़े मार्गदर्शन और सिफारिशें प्रदान की जाएंगी।

स्वच्छता के माध्यम से पाया सकता है निरंत्रण

एजेंसी ने कहा, उपलब्ध जानकारी से पता चलता है कि मानव-से-मानव संचरण उन लोगों के बीच हो रहा है जो रोगसूचक मामलों के निकट शारीरिक संपर्क में हैं। बता दें कि मंकीपाक्स एक संक्रामक रोग है जो पश्चिम और मध्य अफ्रीका के कुछ हिस्सों में स्थानिक है। यह निकट संपर्क से फैलता है, इसलिए इसे आत्म-अलगाव और स्वच्छता जैसे उपायों के माध्यम से अपेक्षाकृत आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है। डब्ल्यूएचओ के अधिकारी डेविड हेमैन ने कहा,  'यौन संचारित संक्रमण के जरिये भी मंकीपाक्स फैल रहा है। 

इजरायल में मंकीपाक्स ने दी दस्तक

वहीं, इजरायल में भी मंकीपाक्स ने दस्तक दे दी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को देश के पहले मंकीपाक्स मामले की पुष्टि की। मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, पश्चिमी यूरोप से लौट रहे एक व्यक्ति, जिसने वायरस के संदिग्ध घावों के साथ तेल अवीव के इचिलोव अस्पताल का दौरा किया था, वो मंकीपाक्स संक्रमित पाया गया।बयान के अनुसार, इजरायल इंस्टीट्यूट फार बायोलाजिकल रिसर्च में एक नैदानिक ​​​​नमूने का परीक्षण किया गया था, जहां मंकीपाक्स के संदेह की पुष्टि की गई थी।

इचिलोव अस्पताल के प्रवक्ता ने बताया कि पश्चिमी यूरोप में एक मंकीपाक्स रोगी के संपर्क में आए व्यक्ति को चिकित्सा परीक्षण कराया गया, जिसके बाद मंकीपाक्स वायरस की पुष्टी हुई। बता दें कि  हाल ही में अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और कई पश्चिमी यूरोपीय देशों में मंकीपॉक्स के मामले सामने आए हैं।

Edited By: Piyush Kumar