लंदन, प्रेट्र। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि जबतक पाकिस्तान आतंकी समूहों की भर्ती और उसकी आर्थिक मदद पर लगाम नहीं लगाता तबतक उससे समझौते की गुंजाइश नहीं है। विदेश मंत्री न्यूयार्क टाइम्स में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा कश्मीर परे लिखे गए ओपिनियन का जवाब दे रहे थे। पाकिस्तानी पीएम ने दलील दी है कि दोनों देशों के बीच बातचीत की जरूरत है क्योंकि दक्षिण एशिया पर परमाणु खतरा मंडरा रहा है।

जयशंकर ने बेल्जियम की राजधानी ब्रुसेल्स में पोलिटिको को दिए गए साक्षात्कार में कहा कि बातचीत का विचार बेमानी है क्योंकि पाकिस्तान दिनदहाड़े आतंकवाद संचालित कर रहा है। उन्होंने कहा, 'आतंकवाद ऐसा नहीं है जिसे पाकिस्तान में ढके छिपे चलाया जा रहा है। यह दिनदहाड़े किया जा रहा है।' उन्होंने कहा कि शुक्रवार को न्यूयार्क टाइम्स में प्रकाशित खान का ऑप-एड पढ़ने का समय नहीं मिला।

आने वाले दिनों में कश्मीर में दी जाएगी ढील
अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के बाद से कश्मीर की स्थिति पर जवाब देते हुए विदेश मंत्री ने कहा कि पूरी घाटी में लगाए गए सुरक्षा प्रतिबंधों में आने वाले दिनों में ढील दी जाएगी। आतंकियों को सक्रिय होने से रोकने और लोगों को हिंसा के लिए एक दूसरे से संपर्क करने से रोकने को ध्यान में रखकर टेलीफोन और इंटरनेट पर रोक लगाने की जरूरत थी।

जयशंकर ने कहा, 'दूसरे लोगों के लिए इंटरनेट बनाए रखते हुए मैं आतंकियों और उनके सरगनाओं के बीच कैसे संपर्क काट सकता हूं? यह जानकर मुझे खुशी होगी।'

सुरक्षा बल घटाए जाएंगे
विदेश मंत्री ने कहा कि सुरक्षा बलों की संख्या में कमी की जाएगी। वह पुलिस को मूल कर्तव्य निभाने के लिए भेजना चाहेंगे क्योंकि उनके पास और कई काम हैं।

कश्मीर में कोई हिंदू राष्ट्रवाद एजेंडा नहीं
विदेश मंत्री ने अनुच्छेद 370 समाप्त करने के पीछे हिंदू राष्ट्रवादी एजेंडा होने के आरोपों को खारिज किया। आरोप है कि इससे गैर-मुस्लिमों को संपत्ति खरीदने की अनुमति दी गई है। उन्होंने कहा, 'जो लोग ऐसा कह रहे हैं वे असल में भारत को जानते ही नहीं हैं। क्या इस तरह की आवाज भारत की संस्कृति है?'

न्यूजीलैंड के नेता प्रतिपक्ष से हिंद-प्रशांत द्विपक्षीय रिश्ते पर हुई बात
विदेश मंत्री ने सोमवार को न्यूजीलैंड के नेता प्रतिपक्ष सिमोन ब्रिजेज से मुलाकात की और हिंद-प्रशांत पर चर्चा की। दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय रिश्ते को मजबूत बनाने पर भी बातचीत की। पिछले महीने आसियान संबंधी बैठक के सिलसिले में बैंकाक यात्रा के दौरान जयशंकर ने न्यूजीलैंड के अपने समकक्ष विल्सन पीटर से मुलाकात की थी।

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप