लंदन, पीटीआइ। ब्रिटिश वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने कहा है कि भारत और ब्रिटेन के बीच वित्तीय सेवाओं को लेकर असीम संभावनाएं हैं और दोनों देशों की बीच जारी मुक्त व्यापार समझौता (एफटीए) वार्ता का यह एक अहम पहलू भी है। इंडिया ग्लोबल फोरम की ओर से शुक्रवार को आयोजित यूके-इंडिया अवार्ड समारोह से पहले ब्रिटिश वित्त मंत्री ने कहा कि उन्हें फिनटेक जैसे क्षेत्र में दोनों देश के लिए काफी अवसर दिख रहे हैं। उन्होंने भारतीय बीमा बाजार खुलने का भी स्वागत किया। सुनक ने भरोसा जताया कि दोनों देशों के बीच एफटीए को लेकर समझौता पत्र दिवाली से पहले तैयार हो जाएगा।

ब्रिटिश वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने कहा कि एफटीए को लेकर अच्छी प्रगति हो रही है और मुझे लगता है कि मेरे लिए वित्तीय सेवाएं सबसे रोमांचक चीजों में से एक है। सुनक ने कहा कि भारत का लक्ष्य अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों में बीमा का विस्तार करना है। इसका कारण यह है कि व्यक्तियों और विकास को सुरक्षित बनाने के लिए बीमा काफी जरूरी है।

हम इसमें मदद कर सकते हैं क्योंकि ब्रिटेन के पास काफी शानदार बीमा उद्योग है। धीरे-धीरे हम भारतीय नागरिकों और कंपनियों को बीमा उत्पादों, सेवाओं और विशेषज्ञता को और अधिक प्रदान करने में सक्षम हुए हैं। उन्होंने भारत की सावरेन ग्रीन बांड योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि ब्रिटेन इसके जरिये पूंजी जुटाने में मददकर सकता है।

ब्रिटेन के वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री ने कहा कि एक विशाल अर्थव्यवस्था और दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के रूप में क्षेत्र में और वास्तव में पूरी दुनिया में भारत की प्रभावशाली भूमिका के कारण वे उसके बड़े समर्थक हैं और एफटीए इस कारण को साबित करेगा। ब्रिटेन में जन्मे भारतीय मूल के ऋषि सुनक ने कहा कि वह जल्द ही परिवार के साथ भारत की यात्रा करेंगे। उन्होंने भारत और ब्रिटेन के बीच समानता की साझेदारी स्थापित करने में भारतीय प्रवासियों की अहम भूमिका बताई।

Edited By: Shashank Shekhar Mishra