लंदन, पीटीआइ। ब्रिटेन में भारतीय मूल के दोनों प्रमुख मंत्री- प्रीति पटेल और ऋषि सुनक अपना विभाग बचाए रखने में कामयाब रहे हैं। हालांकि दोनों के खिलाफ नकारात्मक खबरें हफ्तों से चर्चा में थीं। मंत्रिमंडल में बड़े फेरबदल में प्रधानमंत्री बोरिस जानसन ने विदेश मंत्री डोमिनिक राब को हटाकर उनके स्थान पर लिज ट्रस को लिया है। राब को उप प्रधानमंत्री बनाया गया है। उनके पास कानून मंत्रालय भी होगा। राब अफगानिस्तान मसले से सही तरीके से निपटने में विफल माने जा रहे थे।

ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक आइटी क्षेत्र की दिग्गज भारतीय कंपनी इन्फोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति के दामाद हैं। कोविड-19 महामारी से मंदी में फंसी ब्रिटिश अर्थव्यवस्था को उबारने की बड़ी जिम्मेदारी सुनक के पास ही रहेगी। जबकि ब्रेक्जिट के बाद ब्रिटेन की अंदरूनी व्यवस्था को चाक-चौबंद रखने की जिम्मेदारी गृह मंत्री प्रीति पटेल के पास बनी रहेगी। पटेल भारतीय (गुजराती)-यूगांडाई माता-पिता की संतान हैं। वह जुलाई 2019 से ब्रिटेन की गृह मंत्री हैं।

विदेश मंत्री बनाई गईं लिज ट्रस इससे पहले सरकार में अंतरराष्ट्रीय व्यापार विभाग की मंत्री थीं। हाल ही में उन्होंने भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल से द्विपक्षीय व्यापार बढ़ाने के संबंध में बात की थी। राब को राबर्ट बुकलैंड का कानून विभाग दिया गया है। मंत्रिमंडल से कानून मंत्री रोबर्ट बकलैंड, शिक्षा मंत्री गेविन विलियमसन और आवास मंत्री रोबर्ट जेनरिक को बाहर का रास्ता दिखाया गया है। गेविन विलियमसन ने ट्वीट कर बताया कि उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया है।  

इस बीच ब्रिटेन ने चीन को जैसे को तैसा वाला जवाब भी दिया है। चीन के शिनजियांग में उइगर अल्पसंख्यकों के खिलाफ मानवाधिकारों के कथित उल्लंघन पर टिप्पणी के लिए कुछ ब्रिटिश सांसदों पर लगाए गए प्रतिबंधों के बाद ब्रिटेन की बोरिस जानसन सरकार ने चीनी राजदूत झेंग जेगुआंग को ब्रिटिश संसद से प्रतिबंधित कर दिया है। चीन ने ब्रिटेन के इस कदम की कड़ी आलोचना की है। चीनी दूतावास ने बयान जारी कर कहा कि ब्रिटेन की संसद का यह फैसला संकीर्ण मानसिकता को दिखाता है।