लंदन, रायटर। चीन के शिनजियांग प्रांत में उइगर मुस्लिमों पर हो रहे अत्याचार को ब्रिटेन की संसद ने नरसंहार माना है। साथ ही ब्रिटेन की सरकार से इस पर कार्रवाई करने के लिए कहा है। सांसदों ने कहा, शिनजियांग में नरसंहार को लेकर बीजिंग की आलोचना की जानी चाहिए।

संसद के प्रस्ताव पर कार्रवाई किये जाने के मामले में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन फिलहाल बच रहे हैं। ब्रिटेन ने शिनजियांग में अत्याचार के मामलों को अब तक मानवाधिकारों का जबर्दस्त उल्लंघन माना है। मंत्रियों का कहना है कि नरसंहार घोषित करने का निर्णय अदालत द्वारा ही लिया जा सकता है। सरकार ने अब तक इन मामलों का संज्ञान लेते हुए चीन पर कई प्रतिबंध लगाए हैं। शिनजियांग में बनने वाले उत्पादों के आयात पर रोक लगाने के लिए भी कड़े नियम बनाए गए हैं।

कंजरवेटिव सांसद नुसरत गनी ने प्रस्ताव पारित करने के दौरान कहा कि चीन में मानवता के खिलाफ अपराध किया जा रहा है। यहां जो हो रहा है, वह नरसंहार है।

संसद का यह प्रस्ताव बाध्यकारी नहीं है। अब सरकार को निर्णय लेना है कि वह इस पर क्या कार्रवाई करे।

ब्रिटेन के चीनी दूतावास ने संसद के इस प्रस्ताव की निंदा की है। दूतावास ने शिनजियांग में नरसंहार की बात को भी सिरे से नकार दिया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप