लंदन, प्रेट्र। ब्रिटेन में फार्मेसिस्ट के के पद पर काम करने वाले एक भारतवंशी को नशे में इस्तेमाल की जाने वाली दवाइयों को ब्लैक मार्केट में बेचने पर एक साल की सजा सुनाई गई है। बलकीत सिंह खेरा अपनी मां के खैरा फार्मेसी में काम करता था और वहीं वेस्ट ब्रूमबिच में रहता था। वह यहां काम करते हुए ऐसी नशीली दवाइयों को बाजार में अवैध रूप से बेच देता था, जो केवल डाक्टरों के पर्चे पर ही दी जा सकती थीं।

इस तरह से पिछले चार साल के अंदर उसने भारी मात्रा में ऐसी दवाइयों की कालाबाजारी की। उस पर मुकदमा चलाया जा रहा था। प्रवर्तन अधिकारी ग्रांट पोवेल ने बताया कि बिना डाक्टर के पर्चे के दवाई बेचना गंभीर अपराध है। हमारी जांच में बलकीत सिंह ने बाजार में ऐसी दवाइयां लंबे समय तक बेचने की बात को स्वीकार किया है। बर्मिघम क्राउन कोर्ट ने उसे एक साल कैद की सजा सुनाई है। उसकी मां बलकीत सिंह के अवैध काम में शामिल नहीं थीं।