मास्को, रायटर/एएफपी। रूस के एक यात्री विमान में सुखोई सुपरजैट 100 में आग लगने से लगभग 41 लोगों की मौत हो गई। जिसमें दो बच्चे भी शामिल है। इसकी जानकारी मामले की जांच कर रहे जांचकर्ताओं ने दी। दरअसल, रविवार को मास्को एयरपोर्ट से सुखोई विमान ने उत्तरी रूस के मरमांस्क शहर के लिए उड़ान भरी थी।कहा जा रहा है कि जिस वक्त विमाान उड़ान भरने की तैयारी कर रहा था तभी विमान में अचानक आग लग गई। 

कहा जा रहा है कि जिस वक्त विमाान उड़ान भरने की तैयारी कर रहा था तभी विमान में अचानक आग लग गई।  विमान के चालक दल ने एटीसी को तुरंत इसकी सूचना दी और विमाान की इमर्जेंसी लैंडिंग कराई गई।  लैंडिग के दौरान विमान पुरी तरह से आग की चपेट में आ गया। जांच एजेंसी के प्रवक्ता स्वेतलाना प्रेट्रेंको ने बताया कि विमान में मौजूद 78 लोगों में से सिर्फ 37 लोग जीवित हैं, यानी 41 लागों की मौत हो गई है। बता दें कि विमान में 73 यात्री और चालक दल के पांच सदस्य सवार थे। आपात लैंडिंग के दौरान विमान में आग लगी। 

प्रधानमंत्री दिमित्री मेदवेदेव ने हादसे की जांच के लिए एक विशेष कमेटी बनाने का आदेश दिया  था। अभी आग लगने के कारणों का पता नहीं चल सका है, लेकिन आशंका जताई जा रही है कि उड़ान के दौरान विमान के मोटरों में आग गई होगी। हादसे के चलते कई विमानों को दूसरे हवाईअड्डो के लिए डायवर्ट किया गया।रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने कहा कि राष्ट्रपति ने पीड़ितों के प्रियजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है।

हादसे से संबंधित जो टीवी फुटेज सामने आए हैं, उसमें सुखोई सुपरजेट-100 विमान को मास्को के शेरेमेटेओवा एयरपोर्ट पर आपात लैंडिंग करते दिखाया गया है। तस्वीरों में विमान का पिछला हिस्सा धू-धू कर जलता दिखाई दे रहा था। फुटेज में विमान के इमरजेंसी गेट से यात्री बाहर निकलते दिखाई दे रहे थे।सुखोई सुपरजेट -100 रूस के सोवियत इरा के बाद विकसित किया गया पहला नागरिक विमान था।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस