मॉस्को, एएनआइ। इस साल के अंत तक रूस आर्कटिक जलवायु और पर्यावरण की निगरानी के लिए अपना पहला आर्कटिक-एम उपग्रह लॉन्च करेगा। लावोचिन एयरोस्पेस कंपनी के जनरल डायरेक्टर व्लादिमीर कोलीमकोव ने न्यूज एजेंसी स्पुतनिक को यह जानकारी दी है।

कोलिमीकोव ने कहा, "यह अब तक का नंबर एक आर्कटिक-एम अंतरिक्षयान विकसित किया गया है और इसका रेडियो-इलेक्ट्रॉनिक परीक्षण किया जारहा है। इसे लॉन्च करने की योजना 2020 के अंत तक बनाई गई है।" उन्होंने आगे कहा कि दूसरे आर्कटिक-एम उपग्रह पर अभी भी कां चल रहा है और इसे 2023 में लॉन्च किया जाएगा।

फरवरी में एक अंतरिक्ष उद्योग के सूत्र ने स्पूतनिक को बताया था कि बैकोनूर अंतरिक्ष केंद्र से 9 दिसंबर, 2020 के लिए पहली अर्कटिका-एम उपग्रह की लॉन्चिंग की योजना बनाई गई थी। सूत्र के अनुसार फ्रीगैट बूस्टर के साथ उपग्रह को सोयूज-2.1.1 वाहक रॉकेट का उपयोग करके लॉन्च किया जाएगा।

रूस का आर्कटिका-एम रिमोट-सेंसिंग और आपातकालीन संचार उपग्रह पृथ्वी के ध्रुवीय क्षेत्रों में मौसम संबंधी डेटा एकत्र करेगा। इससे मौसम के पूर्वानुमान में सुधार करने की अनुमति दी जाएगी और वैज्ञानिकों को जलवायु परिवर्तन का बेहतर अध्ययन करने में सक्षम बनाएगा।

Posted By: Neel Rajput

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस