मास्को, रायटर। रूस और यूक्रेन ने दर्जनों कैदियों की अदला-बदली की। शनिवार को शांति की दिशा में उठाए गए इस कदम की पश्चिम ने सराहना की है। इससे 2014 में मास्को के क्रीमिया पर किए गए कब्जे के बाद रिश्तों में पैदा हुई खटास भी कम होने का अनुमान है।

दोनों तरफ से 35 कैदियों को सौंपा गया। इससे मास्को और कीव के बीच विश्वास बहाली में मदद मिल सकती और और दोनों पूर्वी यूक्रेन में संघर्ष सहित अन्य मुद्दों पर गंभीरता पूर्वक बातचीत शुरू कर सकते हैं।

लंबी बातचीत के बाद रूस का विमान कीव से रिहा किए गए कैदियों को लेकर मास्को, जबकि यूक्रेन का विमान अपने कैदियों के साथ कीव पहुंचा। रिहा किए गए यूक्रेन के कैदियों में 24 सैनिक शामिल हैं। इन सैनिकों को रूस ने पिछले वर्ष क्रीमिया तट के पास संघर्ष के दौरान हिरासत में लिया था। इसके अलावा रूस की जेल में बंद यूक्रेन के फिल्म निर्माता ओलेग सेंत्सोव भी शामिल थे।

मलेशियाई विमान गिराने वाले को भी रिहा किया गया
मास्को पहुंचने वालों में वोलोद्यम्यर त्सेमाख भी शामिल थे। इन पर 2014 में विद्रोहियों के कब्जे वाले पूर्वी यूक्रेन में मलेशियाई एयरलाइंस के यात्री विमान को मार गिराने की घटना में शामिल होने का आरोप है। इस हमले में सभी 298 सवार मारे गए थे। डच सरकार ने बयान जारी कर कहा है कि खेद है कि रूस के दबाव में त्सेमाख को भी कैदियों की इस अदला-बदली में शामिल किया गया। बयान में कहा गया है कि डच अभियोजक को त्सेमाख से पूछताछ करने का अवसर मिला।

इसे भी पढ़ें: जानिए क्‍यों अरबपति बिजनेसमैन एक स्कूल पर हुआ फिदा और उसे सोने से सजा दिया

इसे भी पढ़ें: Video: पीएम मोदी ने पेश की सादगी की मिसाल, सोफे के बजाए कुर्सी पर बैठने की जताई इच्‍छा

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप