लंदन (रायटर्स)। पूर्व एजेंट सर्गेइ स्‍क्रिपाल व उनकी बेटी पर नर्व एजेंट हमला मामले में ब्रिटिश पुलिस ने कई रूसी नागरिकों की पहचान हमलावर के तौर पर की है। मामले की जांच मामले के करीबी सूत्र के हवाले से यह जानकारी प्रेस एसोसिएशन की ओर से गुरुवार को दी गई। रूसी मिलिट्री इंटेलीजेंस में पूर्व कर्नल स्‍क्रिपाल व उनकी बेटी यूलिया बेहोशी की अवस्‍था में 4 मार्च को सैलिसबरी में पब्‍लिक बेंच पर पाए गए।

हालांक‍ि रूस ने बार-बार हमले में शामिल होने से इंकार किया है। सीसीटीवी फुटेज की जांच के बाद पुलिस का मानना है कि स्‍क्रिपाल के हमले में कई रूसी शामिल थे। इस हमले के लिए ब्रिटेन ने रूस पर आरोप लगाया और इस जहर की पहचान नोवीचोक के तौर की गई। 1970 और 80 के दशक में सोवियत मिलिट्री द्वारा घातक नर्व एजेंट को विकसित किया गया था।

अज्ञात सूत्र के अनुसार, जांचकर्ताओं का मानना है कि उन्‍होंने नोविचोक हमले में संदिग्‍ध अपराधियों की पहचान कर ली है। सूत्र ने बताया, 'मामले की जांच करने वाले सभी अधिकारियों को यह पक्‍का विश्‍वास है कि संदिग्‍ध रूसी हैं।' इन्‍होंने सिक्‍योरिटी कैमरा की तस्‍वीरों व देश में प्रवेश करने वाले लोगों के रिकॉर्ड खंगाले हैं। पुलिस प्रवक्‍ता ने इस रिपोर्ट पर बयान देने से इंकार कर दिया। 

उल्‍लेखनीय है कुछ दिनों पहले ही सैलिसबरी में ही एक ब्रिटिश महिला की भी मौत नोविचोक के संपर्क में आने से हो गई। महिला के पति अभी भी अस्‍पताल में हैं।

Posted By: Monika Minal