मास्को, एएनआइ।  रूस के केमेरोवो इलाके ( Kemerovo Region) में गुरुवार को एक कोयला खदान में आग लग जाने से 52 लोगों की मौत हो गई जिसमें छह बचावकर्मी शामिल हैं। पिछले पांच सालों के दौरान होने वाले खदान हादसों में यह सबसे घातक है। शुरुआती आंकड़ों के अनुसार इस लिस्टव्याझान्या खदान (Listvyazhnaya mine) में किसी के जीवित होने की संभावना नहीं के बराबर है। क्षेत्रीय अधिकारियों ने मृतकों की याद में तीन दिन के शोक की घोषणा कर दी है।

क्षेत्रीय अधिकारियों के अनुसार, 38 लोग गंभीर रूप से घायल हैं और इन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है जिनमें से चार की हालत अत्यधिक गंभीर है। जब यह हादसा हुुआ उस वक्त खदान में कुल 285 लोग थे। TASS के अनुसार कुछ लोगों के शव भूमिगत हो गए हैं और वे तापमान और मिथेन के कंसंट्रेशन में संतुलन के बाद ही ऊपर आएंगे।

केमेरोवो के गवर्नर सर्गेई सिविलयोव ने इस हादसे पर दुख प्रकट किया है। विस्फोट के खतरे के कारण लगभग 250 मीटर (820 फीट) अंदर भूमिगत खदान में फंसे लोगों को बचाने का प्रयास गुरुवार दोपहर के बाद रोक दिए गए और बचाव दल को खदान से बाहर निकाल लिया गया।

‘इंटरफैक्स’ समाचार एजेंसी ने बताया कि खनिकों के पास आमतौर पर छह घंटे चलने के लिए आक्सीजन क्सीजन आपूर्ति होती है जिसे कुछ और घंटे चलाया जा सकता है। हालांकि खनिकों का आक्सीजन किसी भी तरह गुरुवार देर रात समाप्त हो गया होगा। रूस की जांच समिति ने सुरक्षा नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में आग की आपराधिक जांच शुरू की है, जिसके कारण मौतें हुईं। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने जान गंवाने वाले खनिकों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की और सरकार को घायलों को सभी आवश्यक सहायता प्रदान करने का आदेश दिया।

Edited By: Monika Minal