इस्लामाबाद, पीटीआइ। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतेरस ने रविवार को कहा कि भारत और पाकिस्तान के लिए आपस में तनाव करना और अत्यधिक संयम बनाए रखना बेहद जरूरी है। भले ही यह तनाव दोनों देशों के बीच की सेनाओं का हो या जुबानी... उन्होंने पाकिस्तान की अपनी चार दिन की यात्रा पर ये बातें कही। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के साथ बैठक के बाद प्रेस कांफ्रेंस में गुतेरस ने कहा कि वह नियंत्रण रेखा पर तनाव को लेकर बेहद चिंतित हैं। कूटनीति और बातचीत के जरिए ही दोनों देशों के बीच शांति और स्थिरता कायम हो सकती है।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने एक बार फिर दोहराया कि अगर दोनों देश राजी हों तो वो उनके बीच मध्यस्थता के लिए तैयार हैं। भारत ने बार-बार स्पष्ट किया है कि कश्मीर उसके और पाकिस्तान के बीच का द्विपक्षीय मामला है और इसमें किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है। गुतेरस ने कहा कि कश्मीर मसले को संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव के मुताबिक सुलझाया जाना चाहिए। भारत और पाकिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सैन्य पर्यवेक्षक ग्रुप (यूएनएमओजीपी) को पूरी छूट मिलनी चाहिए।

गुटेरस के बयान पर भारत ने करारा पलटवार किया है। भारत का कहना है कि शिमला समझौते के बाद इन दोनों ही बातों का कोई मतलब नहीं रह जाता है। पाकिस्तान के दौरे के दौरान संयुक्त राष्ट्र महासचिव करतारपुर में स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब भी जाएंगे और वहां की जमीनी हालात का जायजा लेंगे। वह पाकिस्तान में 40 वषरें तक अफगान शरणार्थियों को पनाह देने के विषय पर आयोजित अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन को भी संबोधित करेंगे। इसका आयोजन पाकिस्तान और संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (यूएनएचसीआर) कर रहा है। 

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस