इस्‍लामाबाद, एजेंसी । पाकिस्‍तान में कोरोना वायरस मामलों की संख्‍या बढ़कर 1000 के पार हो गई है, जबकि देश में संक्रमण से एक डॉक्‍टर समेत सात लोगों की मौत हो गई है। पाकिस्‍तान के दक्षिण पूर्वी प्रांत कोरोना से सर्वाधिक संक्रमित लोग हैं। यहां कुल 410 मरीज हैं। डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक सिंध के बाहर पंजाब के पूर्वी प्रांत ने सबसे अधिक मामले दर्ज किए हैं। पाकिस्‍तान के खैबर पख्तूनख्वा मे  296 मामले , उत्तर-पश्चिमी प्रांत में 78 मामले दर्ज किए गए हैं, बलूचिस्तान ने 110, जबकि राजधानी इस्लामाबाद ने 15 मामले सामने आए हैं।  

पाकिस्‍तान ने वायरस के प्रसार को रोकने के उपायों के तहत 26 मार्च से सभी घरेलू उड़ानों को निलंबित करने का फैसला किया है। यहां तक ​​कि सिंध प्रांत की सरकार ने वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाउन किया है। पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ने कहा है कि वह एक देश व्यापी लॉकडाउन नहीं लगाएंगे और लोगों से कोरोनॉयरस से लड़ने के लिए आत्म-संगरोध करने का आग्रह करेंगे। देश ने मंगलवार को अपनी सातवीं मौत की सूचना दी थी, जिसमें 57 वर्षीय एक मरीज शामिल था, जिसका लाहौर के मेयो अस्पताल में इलाज चल रहा था।

मरीजों की कुल संख्या 372,757 तक पहुंची 

डब्ल्यूएचओ ने अपनी दैनिक र‍िपोर्ट में कहा है कि संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 372,757 तक पहुंच गई है। इसमें अधिकतर मरीज यूरोपीय देशों के हैं। 195,000 से अधिक मामले यूरोपीय देशों के हैं। वैश्विक मृत्यु का आंकड़ा 16,231 तक पहुंच गया है, जिनमें से 10,000 से अधिक मौतें यूरोपीय क्षेत्र में हुई। डब्ल्यूएचओ के प्रवक्ता ने मंगलवार को जिनेवा में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यूरोप अभी भी इस महामारी का बड़ा केंद्र बना हुआ है, लेकिन अमेरिका में कोरोना के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है। यहां तेजी से प्रसार हो रहा है।

G-20 देश के नेता गुरुवार को वीडियो वार्ता करेंगे

कोरोना महामारी से उपजे वैश्विक संकट को देखते G-20 देश के नेता गुरुवार को वीडियो वार्ता करेंगे। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन सहित विश्व के नेता इस वार्ता में भाग लेंगे। क्रेमलिन ने कहा कि यह शिखर बैठक वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए होगा। रियाद द्वारा बुधवार को जारी एक बयान में कहा गया है कि सीओवीआईडी ​​-19 महामारी से उपजे वैश्विक संकट पर इसके मानवीय और आर्थिक प्रभावों के लिए एक समन्वित वैश्विक प्रतिक्रिया के लिए आयोज‍ित की जा रही है। संयुक्त राष्ट्र, विश्व बैंक, डब्ल्यूएचओ और डब्ल्यूटीओ जैसे अंतरराष्‍ट्रीय संगठनों के नेता भी इसमें भाग लेंगे। फ्रांस और चीन ने मंगलवार को इस विचार का समर्थन किया क्योंकि COVID-19 से अब तक दुनिया में 16,000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है, 1.7 अरब से अधिक लोग अपने घरों में सिमटे हैं।    

 

Posted By: Ramesh Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस