इस्लामाबाद, एएनआइ। पाकिस्तान के इस्लामाबाद में पुलिस अधिकारियों के खिलाफ हिंसा लगातार बढ़ रही है। सोमवार रात पुलिसकर्मी सेक्टर जी-8 में पेट्रोलिंग कर रहे थे, जब कराची कंपनी पुलिस परिसर में गोलीबारी हुई। बता दें कि चौकसी के दौरान पुलिस कर्मीयों ने मोटरसाइकिल पर सवार दो लोगों को रोकने की कोशिश की, जिसके बाद बाइक सवारों ने पुलिस पर गोलियां चला दीं। चौकी पर एक पुलिसकर्मी की गोली मारकर हत्या कर दी गई और दो अन्य घायल हो गए।

गृह मंत्री ने सोमवार रात गोलीबारी में शहीद हुए हेड कांस्टेबल मुनव्वर के अंतिम संस्कार में शामिल हुए। साथ ही उन्होंने इस पूरी घटना का संज्ञान लिया था और इस्लामाबाद के पुलिस महानिरीक्षक से मामले पर रिपोर्ट देने को कहा। द न्यूज इंटरनेशनल के अनुसार, इस आतंकी हमले के बाद संघीय राजधानी में मंगलवार को अलर्ट पर रखा गया था।

आंतरिक मंत्री शेख राशिद अहमद ने कहा

राजधानी इस्लामाबाद में रात भर पुलिस पर हुए हमले के बाद आंतरिक मंत्री शेख राशिद अहमद बयान सामने आया है, राशिद ने कहा, 'वह (मुनव्वर) हेड कांस्टेबल ड्यूटी पर था और आतंकवादियों ने उस पर गोली चला दी। यह चोरी या लूट की घटना नहीं थी। हमें एक तरह का संकेत मिला है कि इस्लामाबाद में आतंकवादी घटनाएं तेज होने लगी हैं।' उन्होंने कहा, 'यह साल की पहली घटना है और हमें बहुत सतर्क रहने की जरूरत है।'

मंत्री राशिद ने पुलिस कर्मियों के बलिदान और शौर्य की कही बात

पाकिस्तानी अखबार डान के रिपोर्ट अनुसार, आंतरिक मंत्री शेख राशिद अहमद आतंकी हमलों में डटकर सामना किए पुलिस कर्मियों के शौर्य और साहस की सराहना की। उन्होंने कहा कि शहीद पुलिसकर्मी ने अपने बलिदान के माध्यम से यह प्रदर्शित किया कि पाकिस्तान के नागरिक सशस्त्र बल देश की सुरक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देते हैं और अत्यधिक सतर्क हैं। बंदूकधारी आतंकवादियों के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि दोनों व्यक्ति आतंकवादी थे और वे मारे गए। 

Edited By: Ashisha Rajput