न्यूयार्क, एपी/एएनआइ। रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने तालिबान को ठीक तरह से आईना दिखा दिया है। रूस ने तालिबान से कहा है कि वह जल्द से जल्द समावेशी सरकार बनाए। उसमें सभी लोगों का प्रतिनिधित्व हो। जनता के साथ जो भी वादे किए हैं, उनको पूरा करें। उन्होंने यह भी कहा कि रूस अफगानिस्तान में आतंकवाद रोकने, समावेशी सरकार व जनता से किए वादों को पूरा कराने के लिए अमेरिका, चीन और पाकिस्तान के साथ मिलकर काम कर रहा है।

रूसी विदेश मंत्री ने कहा है कि तालिबान को महिलाओं और लड़कियों के अधिकारों का सम्मान करना होगा। तालिबान ने सार्वजनिक रूप से जो बात कही हैं, उनको पूरा करके दिखाए। उन्होंने अमेरिका के जल्दबाजी में अफगानिस्तान से जाने के निर्णय की भी आलोचना की।

रूस का यह सख्‍त रुख तालिबान के उस बयान के बाद आया है जिसमें उसने कहा था कि पाकिस्‍तान और दुनिया के बाकी मुल्‍कों को इस्लामिक अमीरात से अफगानिस्तान में एक 'समावेशी' सरकार बनाने के लिए कहने का कोई भी अधिकार नहीं है। मालूम हो कि पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Pakistan Prime Minister Imran Khan) ने हाल ही में कहा था कि अफगानिस्‍तान में एक समावेशी सरकार का गठन किया जाना चाहिए। अमेरिका भी तालिबान से बार बार इसी बात पर जोर दे रहा है।

हाल ही में आई समाचार एजेंसी एएनआइ की एक रिपोर्ट के मुताबिक तालिबान के प्रवक्‍ता और उप सूचना मंत्री जबीहुल्ला मुजाहिद ने कहा था कि पाकिस्तान या किसी अन्य देश को इस्लामिक अमीरात से अफगानिस्तान में 'समावेशी' सरकार बनाने के लिए कहने का कोई अधिकार नहीं है। यही नहीं तालिबान के एक अन्य नेता मोहम्मद मोबीन ने भी पाकिस्‍तान को कहा था कि तालिबान किसी भी देश को अफगानिस्‍तान में समावेशी सरकार बनाने के लिए कहने का अधिकार नहीं देता है।